Spread the love


नई दिल्लीः किंगफिशर एयरलाइंस लिमिटेड के मालिक और भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या को सुप्रीम कोर्ट ने एक और झटका दिया है. विजय माल्या की यूनाइटेड ब्रेवरीज होल्डिंग्स लिमिटेड की ओर से कर्नाटक हाई कोर्ट के आदेश को चुनैती देने के लिए लगाई गई याचिका को सोमवार को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है.

सुनवाई के दौरान जस्टिस यूयू ललित और अशोक भूषण की खंडपीठ ने विजय माल्या की कंपनी को किसी भी तरह से राहत देने से इनकार कर दिया है. इसके साथ ही एसबीआई (SBI) की अगुवाई में बैंको के कंसोर्टियम का प्रतिनिधित्व करते हुए वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट को बताया है कि विजय माल्या से अभी तक 3600 करोड़ रुपए की वसूली की जा चुकी है, वहीं अभी भी विजय माल्या से 11,000 करोड़ रुपए की वसूले जाना बाकी है.

वहीं रोहतगी ने सुप्रीम कोर्ट में तर्क दिया कि प्रवर्तन निदेशालय (ED) को कंपनी की संपत्तियों को कुर्क नहीं करना चाहिए था क्योंकि ये एनक्मबर्ड संपत्तियां थीं और इस प्रकार बैंकों का संपत्ति पर पहला दावा था.

बता दें कि माल्या भारत में वित्तीय धोखाधड़ी के आरोपों के तहत वापस आना चाहता है. जनवरी 2019 में, मनी-लॉन्ड्रिंग एक्ट (PMLA) के तहत कोर्ट ने उन्हें ‘भगोड़ा अपराधी’ घोषित किया था. वह मार्च 2016 से यूनाइटेड किंगडम में रह रहा है. वर्तमान में स्कॉटलैंड यार्ड की ओर से तीन साल पहले प्रत्यर्पण वारंट पर जमानत पर है.

इसे भी पढ़ें

आज 2+2 मीटिंग में होगा बड़ा सैन्य करार, भारत को सटीक निशाना लगाने में मिलेगी मदद

बंगाल में BJP कार्यकर्ता का शव पेड़ से लटका मिला, पार्टी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा- ‘TMC के गुंडों ने की हत्या’



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here