Spread the love


नई दिल्लीः अमेरिका में हुए राष्ट्रपति पद के चुनाव में डोनॉल्ड ट्रंप को हराकर जो बाइडेन अमेरिकी इतिहास के सबसे उम्रदराज राष्ट्रपति बनने जा रहे हैं. इसी के साथ ही भारतीय मूल की कमला हैरिस ने उपराष्ट्रपति पद का चुनाव जीत लिया है. कमला हैरिस की इस जीत के साथ ही वह अमेरिका में पहली महिला उपराष्ट्रपति बन गई है. वहीं दिल्ली में रह रहे कमला हैरिस के मामा 80 वर्षीय गोपालन बालाचंद्रन उनकी जीत से काफी खुश हैं.

कमला हैरिस के मामा गोपालन बालाचंद्रन का कहना है कि ‘कमला की जीत से काफी खुश हूं. मुझे कमला पर काफी गर्व है. मैं उसे जल्द ही फोन करके बधाई दूंगा. कमला की जीत की खबर आने के बाद से ही मेरा फोन बजना बंद नहीं हुआ है. कई लोगों ने मुझे फोन पर कमला की जीत की बधाई दी है.’

बालाचंद्रन का कहना है कि वह और भारत में कमला हैरिस का बाकी परिवार अगले साल जनवरी में होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने के लिए अमेरिका जाएंगे. बालाचंद्रन का कहना है कि ‘उनकी बेटी पहले से ही अमेरिका में कमला के चुनावी अभियान में उनकी काफी मदद कर रही हैं. मैं कमला के शपथ ग्रहण समारोह को किसी भी कीमत पर मिस नहीं करना चाहता.’

बता दें कि बालाचंद्रन, दिल्ली के मालवीय नगर में रहते हैं. वह कमला हैरिस की माँ श्यामला गोपालन के भाई हैं. बालाचंद्रन रक्षा अध्ययन और विश्लेषण संस्थान के साथ काम कर चुके हैं. बालाचंद्रन का कहना है कि ‘ आज अगर कमला की मां यहाँ होती तो बहुत गर्व महसूस करती.’ 19 साल की उम्र में पढ़ाई करने के लिए अमेरिका जाने वाली गोपालन की 2009 में कैंसर से मृत्यु हो गई थी.

इसे भी पढ़ेंः
सबसे युवा सीनेटर से सबसे उम्रदराज अमेरिकी राष्ट्रपति बनने का जो बाइडेन का सफर

US Elections: अमेरिका के नाम पहले संबोधन में बोलीं कमला हैरिस – मैं इस पद पर पहली महिला हूं, आखिरी नहीं



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here