Spread the love


महिला पुलिस अधिकारी की शिकायत पर एसपी ने जांच का आदेश दिया है.

एंटीरोमियो प्रभारी (Antiromio In charge) अंजू ने बताया कि वह निर्धारित समय से ज्यादा ड्यूटी करती हैं. इसके बावजूद एसएचओ (SHO) उनको अन्य स्टाफ के सामने कामचोर और निकम्मा कहकर बुलाते हैं.

शामली. उत्तर प्रदेश की योगी सरकार (Yogi Government) महिला सुरक्षा को लेकर प्रदेश भर में नारी शक्ति अभियान चला रही है. इसके लिए प्रत्येक थाने में एंटीरोमियो प्रभारी (Antiromio In charge) नियुक्त किया गया है, जिनकी अगुआई में गलियों व घरों में जाकर महिलाओं को जागरूक किया जा रहा है. लेकिन शामली जिले के कैराना थाने में तैनात एंटीरोमियो प्रभारी खुद अपनी सुरक्षा को लेकर गुहार लगाई है. एंटीरोमियो प्रभारी अंजू ने एसएचओ (SHO) पर गंभीर आरोप लगाया. एसएचओ प्रेमवीर राणा पर महिला पुलिस अधिकारी ने प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है.

एंटीरोमियो प्रभारी अंजू ने बताया कि वह निर्धारित समय से ज्यादा समय तक ड्यूटी करती हैं. उसके बावजूद एसएचओ उनको अन्य स्टाफ के सामने कामचोर और निकम्मा कहकर बुलाते हैं.

अंजू कैराना कोतवाली थाने में उपनिरीक्षक के पद पर कार्यरत हैं. उन्हें एंटीरोमियो प्रभारी की भी जिम्मेदारी दी गयी है. एसएचओ के व्यवहार से तंग आकर महिला पुलिस अधिकारी ने एसपी का दरवाजा खटखटाया. लेकिन त्योहारों की व्यस्तता के चलते एसपी से उनकी मुलाकात नहीं हो पायी. जिसके बाद पीड़िता ने डीआईजी सहारनपुर का रूख किया और एसएचओ के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई. लेकिन पीड़िता को वहां से भी इंसाफ नहीं मिला.

कहीं से कोई मदद नहीं मिलने से परेशान पीड़िता ने एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर डाल दिया. वीडियो को वायरल होने पर संज्ञान लेते हुए एसपी नित्यानंद राय ने इस मामले में जांच का आदेश दिया है. बतौर एसपी जांच में दोषी पाये जाने पर आरोपी एसएचओ के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here