मुंबई: बृहनगर पालिक (BMC) को बॉम्बे हाई कोर्ट ने एक्ट्रेस कंगना रनौत का बंगला तोड़े जाने पर फटकार लगाई थी. बीएमसी मेयर किशोरी पेडनेकर ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कंगना रनौत के लिए ‘टो टके के लोग’ जैसी भाषा का इस्तेमाल किया.

मेयर ने कहा, ”सभी लोग चकित हैं कि एक एक्ट्रेस जो कि हिमाचल में रहती है, यहां आती है और हमारे मुंबई को POK कहती है. ऐसे दो टके के लोग अदालत को राजनीति का अखाड़ा बनाना चाहते हैं. यह गलत है.”

मेयर की टिप्पणी पर कंगना रनौत ने भी ट्वीट कर अपनी प्रतिक्रिया दी है. कंगना ने लिखा, ”पिछले कुछ महीनों में महाराष्ट्र सरकार द्वारा जितने लीगल केस, अपमान, नाम लेकर अभद्रता मैंने झेली है इसके बाद मुझे लगता है कि बॉलीवुड माफिया और आदित्य पंचोली, ऋतिक रौशन जैसे लोग तो काफी सज्जन हैं.”

बता दें कि कंगना रनौन और महाराष्ट्र सरकार के बीच तनातनी पिछले कई महीने से जारी है. बीएमसी ने कंगना की अनुपस्थिति में उनका बंगला तोड़ दिया था. इसके बाद कंगना ने कहा था कि मुंबई तो पीओके जैसी हो गई है. शिवसेना नेता संजय राउत ने भी इससे पहले कंगना के लिए हरामखोर जैसे शब्द का इस्तेमाल किया था.

महाराष्ट्र सरकार ने मामले से पल्ला झाड़ा
महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कोर्ट के फैसले पर कहा कि यह बीएमसी का मामला है सरकार का इससे कोई लेना-देना नहीं है. वहीं संजय राउत ने कहा, ‘एक्ट्रेस ने मुंबई पुलिस को माफिया और मुंबई को POK कहा है, जो पार्टियां अदालत के आदेश से उत्साहित हैं, क्या वे एक्ट्रेस के बयानों से सहमत हैं? जज और अदालत के खिलाफ अभद्र टिप्पणी करना गलत है, तो जब कोई महाराष्ट्र या मुंबई को लेकर ऐसा बोलता है तो क्या यह मानहानि नहीं है?’





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here