Spread the love


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Hathras Rape Case News Updates: Victim’s Father Demanded CBI Inquiry Says No Trust In UP Police In Hathras Uttar Pradesh

हाथरस9 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

तृणमूल सांसद हाथरस गैंगरेप पीड़ित के गांव जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया। इस दौरान धक्कामुक्की हो गई।

  • हाथरस गैंगरेप पीड़ित के परिवार से मिलने जा रहे राहुल-प्रियंका को पुलिस ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया था
  • धक्का-मुक्की में गिरने से राहुल के हाथ में चोट लगी थी, पुलिस ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज भी किया था

हाथरस गैंगरेप केस में हंगामा और राजनीति जारी है। राहुल-प्रियंका के बाद आज तृणमूल (टीएमसी) के नेताओं ने गैंगरेप पीड़ित के गांव पहुंचने की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने गांव के बाहर ही रोक दिया। टीएमसी सांसद डेरेक ओ’ब्रायन को धक्के मारकर जमीन पर गिरा दिया।

तृणमूल की नेता ममता ठाकुर ने कहा कि महिला पुलिसकर्मियों ने हमारे ब्लाउज खींचे और हमारी सांसद प्रतिमा मंडल पर लाठीचार्ज किया, वे नीचे गिर गईं। फीमेल पुलिस के होते हुए मेल पुलिस ने हमारी सांसद को छूआ। यह शर्म की बात है।

पीड़ित परिवार ने सीबीआई जांच की मांग की
एक वीडियो में हाथरस के डीएम प्रवीण लक्षकार पीड़ित परिवार से यह कहते हुए दिख रहे हैं कि मीडिया आज यहां है, कल नहीं रहेगा। आप सरकार की बात मान लीजिए। यह वीडियो वायरल होने के बाद परिवार के किसी भी सदस्य को बाहर नहीं जाने दिया जा रहा। मृतक लड़की के पिता ने सीबीआई जांच की मांग की है। उनका कहना है कि यूपी पुलिस पर अब भरोसा नहीं रहा, हमें मीडिया वालों से नहीं मिलने दे रहे। घर से निकलने पर भी 10 तरह के सवाल किए जा रहे हैं।

पुलिस ने पीड़ित परिवार के फोन छीने
परिवार का एक बच्चा किसी तरह बाहर निकलकर आया और मीडिया को बताया कि सभी के फोन छीन लिए गए हैं। बच्चे ने कहा कि घरवाले आपसे मिलना चाहते हैं, लेकिन उन्हें रोक रखा है। इसके बाद पुलिस ने बच्चे को भी वहां से भगा दिया।

गांव वालों ने कहा- हमारे साथ भी अपराधियों जैसा सलूक हो रहा
उधर, पुलिस ने हाथरस जिले में धारा-144 लगाने के साथ ही पीड़ित के गांव में नाकेबंदी कर रखी है। पूरे गांव को छावनी बना दिया गया है। गांव के लोगों को भी आईडी दिखाने के बाद ही एंट्री दी जा रही है। पुलिस और प्रशासन के इस रवैए से लोग नाराज हैं। उनका कहना है कि अपने ही गांव में हमसे अपराधियों जैसा सलूक हो रहा है।

पीड़ित के गांव के बाहर पुलिस ने बैरिकेड लगा रखे हैं।

पीड़ित के गांव के बाहर पुलिस ने बैरिकेड लगा रखे हैं।

राहुल-प्रियंका को यूपी पुलिस ने 4 घंटे हिरासत में रखा था
राहुल और प्रियंका गांधी गुरुवार को गैंगरेप पीड़ित के परिवार से मिलने जाना चाहते थे। लेकिन, ग्रेटर नोएडा में उनका काफिला रोक लिया गया। वे कार से उतरकर पैदल ही आगे बढ़ने लगे। करीब ढाई किमी चले थे कि इकोटेक-1 थाना इलाके में राहुल-प्रियंका को गिरफ्तार कर लिया गया। इस दौरान पुलिसवाले ने राहुल की कॉलर भी पकड़ी। धक्कामुक्की में राहुल जमीन पर गिर गए। राहुल-प्रियंका को पुलिस ने 4 घंटे बाद छोड़ा। (पूरी खबर यहां पढ़ें…)

धक्का-मुक्की के दौरान गिरने से राहुल के हाथ में चोट लग गई थी।

धक्का-मुक्की के दौरान गिरने से राहुल के हाथ में चोट लग गई थी।

क्या है पूरा मामला?
हाथरस जिले के चंदपा इलाके के गांव में 14 सितंबर को 4 लोगों ने 19 साल की युवती से गैंगरेप किया था। आरोपियों ने युवती की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी और उसकी जीभ भी काट दी थी। दिल्ली में इलाज के दौरान पीड़ित की मौत हो गई। चारों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं। हालांकि, पुलिस का दावा है कि दुष्कर्म नहीं हुआ था।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. हाथरस से भास्कर की एक्सक्लूसिव रिपोर्ट: गैंगरेप पीड़िता के भाई ने छिपकर फोन किया, कहा- हमारा पूरा परिवार नजरबंद है, हम घर से नहीं निकल सकते, बाथरूम भी नहीं जाने दे रही पुलिस

2. गांधी जयंती के बहाने राहुल का तंज: हिरासत से छूटने के 12 घंटे बाद राहुल का ट्वीट- दुनिया में किसी से नहीं डरूंगा, असत्य का विरोध करते हुए सभी कष्टों को सह सकूं





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here