COVID-19: कब तक स्थिति सामान्य होने की संभवाना, AIIMS के कम्युनिटी मेडिसिन के प्रमुख ने कही ये बात
Spread the love


नई दिल्लीः आगामी सर्दी के मौसम में सांस की समस्याओं, बाहर से आने वाले मरीजों की बड़ी तादाद और बड़े उत्सव समारोहों को ध्यान में रखते हुए, रोजाना कोविड-19 के लगभग 15 हजार नए मामलों के लिए दिल्ली को तैयार करने की आवश्यकता है. एनसीडीसी की रिपोर्ट में इसको लेकर आगाह किया गया है.

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल की अध्यक्षता में विशेषज्ञ समूह के मार्गदर्शन में राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट में दिल्ली सरकार से इसके लिए व्यवस्था करने की सिफारिश की गई है.

एनसीडीसी ने अपनी ‘कोविड-19 के नियंत्रण के लिए संशोधित रणनीति के संस्करण 3.0’ में यह भी बताया कि दिल्ली में समग्र कोविड-19 मामले में मृत्यु दर 1.9 प्रतिशत है, जो राष्ट्रीय औसत 1.5 प्रतिशत से अधिक है. रिपोर्ट में कहा गया है कि जहां तक संभव हो मृत्यु दर को कम करना महामारी के प्रबंधन के प्रमुख उद्देश्यों में से एक होना चाहिए.

दिल्ली में कोरोना के 2726 नए केस

पिछले 24 घंटे के दौरान दिल्ली में कोरोना संक्रमण के 2726 नए मामले सामने आए हैं. वहीं  37 और लोगों की मौत हो गई है. इसी के साथ दिल्ली में कोरोना संक्रमण से मौत का आंकड़ा 5653 तक पहुंच गया है. दिल्ली में अभीतक 3 लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित सामने आए हैं. पिछले 24 घंटे में 2643 लोग इलाज के बाद ठीक भी हुए हैं.

वर्तमान में दिल्ली में 22 हजार 232 कोरोना संक्रमितों का इलाज हो रहा है. शहर में रिकवरी रेट 90.73 प्रतिशत तक पहुंच गया है. राज्य में वर्तमान में 12 हजार 890 लोग होम आइसोलेशन में रह रहे हैं. वहीं 6,616 संक्रमितों का अस्पताल में इलाज चल रहा है.

इसे भी पढ़ेंः

बिहार चुनाव: दूसरे चरण के लिए आज से शुरू होंगे नामांकन, 3 नवंबर को 94 सीटों पर होनी है वोटिंग

रामविलास पासवान के निधन पर राजकीय शोक, आज आधा झुका रहेगा राष्ट्रीय ध्वज





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here