Spread the love


  • Hindi News
  • National
  • Coronavirus Death In Punjab Jalandhar; Former National Integrated Medical Association (NIMA) Chief Doctor SP Dogra Dies

जालंधर2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

नेशनल इंटेग्रेटिड मेडिकल एसोसिएशन के पूर्व प्रधान एसपी डोगरा की फाइल फोटो।

  • जालंधर के माई हीरा गेट इलाके में डोगरा अस्पताल चला रहे थे डॉ. एसपी डोगरा, लगा रहता था मरीजों का तांता
  • पिछले सप्ताह खांसी-बुखार के चलते जांच करवाई तो हुई थी संक्रमण की पुष्टि, मोहाली के निजी अस्पताल में थे भर्ती
  • मंगलवार को हरनाम दास पुरा के श्मशानघाट पर उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया

जालंधर के जाने-माने डॉक्टर और नेशनल इंटेग्रेटिड मेडिकल एसोसिएशन (एनआईएमए) के पूर्व प्रधान एसपी डोगरा की सोमवार रात को कोरोना संक्रमण से मौत हो गई। शहर के माई हीरा गेट इलाके में अस्पताल चलाने वाले डॉ. डोगरा को बीते दिनों खांसी-बुखार और अन्य लक्षण दिखे। जांच में कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के चलते उन्हें मोहाली के निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया था। मंगलवार को हरनाम दास पुरा के श्मशानघाट पर उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

मिली जानकारी के अनुसार 74 वर्षीय डॉ. एसपी डोगरा को पिछले सप्ताह खांसी-बुखार के अलावा अन्य लक्षण दिखाई दिए तो उन्होंने कोविड-19 के संक्रमण की जांच करवाई। रिपोर्ट पॉजीटिव आने के बाद उन्हें मोहाली के निजी अस्पताल में दाखिल करवाया गया। वहां स्वास्थ्य में कुछ सुधार हुआ तो परिजन उन्हें जालंधर ले आए थे। बीते दिन हालत फिर से खराब हो जाने पर दोबारा मोहाली के अस्पताल में दोबारा भर्ती करवाया गया था। वहां डाॅ. डोगरा ने दम तोड़ दिया।

बता दें कि डॉ. डोगरा बहुत ही मिलनसार स्वभाव और ईश्वर में आस्था रखने वाले व्यक्ति थे। मृदुभाषी डॉ. डोगरा के अस्पताल में सस्ती और अच्छी सेहत सुविधाएं होने के चलते मरीजों का तांता लगा रहता था। आज के दौर में उन्होंने डॉक्टरी के पेशे से पैसे की बजाय हमेशा इज्जत ही कमाई। डॉ. डोगरा सिर्फ एक अच्छे अनुभवी चिकित्सक ही नहीं, बल्कि समाजसेवी भी थे। इतना ही नहीं, उन्होंने डॉक्टरों के हितों से जुड़ी संस्था नेशनल इंटेग्रेटिड मेडिकल एसोसिएशन की स्थापना में भी अहम भूमिका निभाई थी। एसोसिएशन के प्रधान भी रहे।

मंगलवार को हरनाम दास पुरा के श्मशानघाट पर उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया। उनके निधन पर एसोसिएशन की तरफ से शोक संवेदनाएं व्यक्त की गई हैं। डॉ. केएस राणा, डॉ. परविंदर बजाज, डॉ. आईपी सिंह सेठी, डॉ. अनिल जखोती, डॉ. अनिल नागरथ, डॉ. आशु चोपड़ा के अलावा बड़ी संख्या में जालंधर के डॉक्टरों ने इसे कभी पूरी नहीं होने वाली क्षति बताया है।

0



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here