गैंगस्टर विकास दुबे की 147 करोड़ की संपत्ति की ED करेगी जांच (File photo)

बता दें कि बीते 2-3 जुलाई की मध्यरात्रि कानपुर के बिकरू गांव में विकास दुबे (Vikas Dubey) को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर गैंगस्टर के साथियों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    December 15, 2020, 8:14 PM IST

कानपुर/लखनऊ. उत्‍तर प्रदेश के कानपुर (Kanpur) के बिकरू गांव में जुलाई में आठ पुलिसकर्मियों की सामूहिक हत्या के मामले के विभिन्न पहलुओं की पड़ताल जारी है. इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने घटना के मुख्य दोषी दुर्दांत अपराधी विकास दुबे और उसके फाइनेंसरों की 147 करोड़ रुपये की संपत्तियों तथा उससे जुड़े लोगों की आय के विभिन्न स्रोतों की जांच प्रवर्तन निदेशालय (ED) से कराने का निर्णय लिया है.

घटना के तत्काल बाद मुख्यमंत्री द्वारा गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) ने इस घटना के मास्टरमाइंड रहे विकास दुबे की 147 करोड़ रुपये की संपत्ति की प्रवर्तन निदेशालय से जांच की सिफारिश की थी, जिसे मुख्यमंत्री ने स्वीकार कर लिया है. राज्य सरकार के प्रवक्ता ने बताया कि अपर मुख्य सचिव संजय भूसरेड्डी की अगुवाई में गठित तीन सदस्यीय एसआईटी ने गैंगस्टर की अवैध तरीके से हासिल की गई 147 करोड़ रुपये की संपत्ति की प्रवर्तन निदेशालय से गहराई से जांच कराए जाने की सिफारिश की थी.

योगीमय हुआ सोशल मीडिया, ट्विटर इंडिया पर टॉप-1 में ट्रेंड हुआ #UPKiShaanYogiJi

एसआईटी ने पिछले महीने के शुरुआत में सरकार को सौंपी गई अपनी जांच रिपोर्ट में यह भी कहा था कि दुबे और उसके फाइनेंसर सहित उससे जुड़े सभी अपराधियों के आय के स्रोत की जांच कराई जानी चाहिए. बता दें कि बीते 2-3 जुलाई की मध्यरात्रि कानपुर के बिकरू गांव में दुबे को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर गैंगस्टर के साथियों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं.मुखबिरी के चलते ही पुलिस की दबिश के बारे में मिली जानकारी
जांच रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि दुबे को मुखबिरी के चलते पहले से ही पुलिस की दबिश के बारे में जानकारी मिल गई थी. गत दो-तीन जुलाई की मध्यरात्रि कानपुर के बिकरू गांव में दुबे को गिरफ्तार करने पहुंची पुलिस टीम पर गैंगस्टर के साथियों ने ताबड़तोड़ गोलियां बरसाई थीं जिसमें एक क्षेत्राधिकारी और एक थानाध्यक्ष समेत आठ पुलिसकर्मी मारे गए थे, वहीं पांच पुलिसकर्मी, एक होमगार्ड और एक आम नागरिक घायल हुआ था. घटना का मास्टरमाइंड विकास दुबे बीती 10 जुलाई को उज्जैन से कानपुर लाए जाने के दौरान एसटीएफ के साथ हुई मुठभेड़ में मारा गया था.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here