Spread the love


  • Hindi News
  • Local
  • Uttar pradesh
  • Ayodhya Ram Mandir Nirman Karya Updates; Shri Ram Janmabhoomi Teerth Kshetra And Temple Construction Committee In Delhi

अयोध्या5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

फोटो 5 अगस्त की है। अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम मंदिर का शिलान्यास करने पहुंचे थे। प्रधानमंत्री ने यहां हनुमानगढ़ी और रामलला के दर्शन भी किए थे।

  • ट्रस्ट के सदस्य डॉ. अनिल मिश्र ने बताया कि नक्शा पास करवाने के साथ उड्डयन, फायर, पर्यावरण सहित कई विभागों से एनओसी लेनी पड़ती है
  • केंद्र सरकार के सचिव ने तांबे की 8 पट्टियों की पहली खेप पहुंचाई, छड़ें देने के लिए देशभर के जनप्रतिनिधियों और कारोबारियों के फोन आ रहे हैं

दिल्ली में श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट और मंदिर निर्माण समिति की बैठक के बाद अयोध्या में राम मंदिर निर्माण की औपचारिकताएं तेज हो गई हैं। ट्रस्ट 15 से 20 दिन के भीतर 70 एकड़ क्षेत्र का अयोध्या प्राधिकरण से नक्शा पास कराने की प्रक्रिया में जुट गया है। इस दौरान एलएंडटी के इंजीनियर मंदिर स्थल की जमीन और नींव के लिए तकनीकी परीक्षण करने के साथ मंदिर का नक्शा भी फाइनल कर लेंगे। वहीं केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के मंत्रालय के सचिव ने मंदिर निर्माण के लिए तांबे की 8 पट्टियां भेजी हैं।

ट्रस्ट के सदस्य डॉ. अनिल मिश्र ने बताया कि नक्शा पास करवाने के साथ उड्डयन, फायर, पर्यावरण सहित कई विभागों से एनओसी लेनी पड़ती है। इसको हासिल करने को लेकर कार्रवाई चल रही है। नक्शा पास कराने में करीब 2 करोड़ रुपए खर्च होंगे।

10 हजार तांबे की छड़ें भेजने की अपील की थी

निर्धारित आकार की तांबे की पट्टियों का ट्रस्ट कार्यालय पहुंचना शुरू हो गया है। ट्रस्ट के कार्यालय प्रभारी प्रकाश गुप्ता ने बताया कि 8 पट्टियों की पहली खेप रविवार को पहुंची। यह खेप तांबे के दान के औपचारिक श्रीगणेश करने के लिए भेजी गई है। देश के कई प्रांतों से जनप्रतिनिधियों, व्यवसायियों और आम लोगों के फोन तांबे की छड़ें भेजने के लिए आ रहे हैं। हालांकि, लोगों को ऐसा करने से रोका जा रहा है, क्योंकि इसकी जरूरत करीब 4 महीने के बाद पड़ेगी।

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने पत्थरों को जोड़ने के लिए करीब 10 हजार तांबे की छड़ों के दान करने के लिए अपील की थी। लेकिन जिस तरह से लोगों में तांबे की छड़ों को भेजने का उत्साह दिख रहा है उससे यही लगता है, इससे कहीं ज्यादा तांबा बहुत जल्द पहुंच जाएगा।

पहुंच रही हैं मशीनें

ट्रस्ट के कार्यालय प्रकाश गुप्ता ने बताया कि नींव खुदाई का काम शुरू करने की तैयारी चल रही है। 1989 में कारसेवा के दौरान राम मंदिर के गर्भगृह के सामने जो कंक्रीट का प्लेटफॉर्म तैयार किया गया था उसे खोद कर हटा दिया गया है। अब इस स्थल साफ सफाई का काम एलएंडटी कंपनी करवा रही है। इस कंपनी की बड़ी मशीनें भी जल्द अयोध्या पहुंचने वाली हैं। उन्होंने कहा कि कुछ मशीनें लोगों ने दान की हैं जो साइट पर पहुंची हैं। मंदिर स्थल पर समतलीकरण का काम पूरा हो गया है। एलएंडटी कंपनी अपना कार्यालय भी जल्द खोलने जा रही है। इसके लिए स्थान भी चिह्नित किया गया है।

0



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here