Sunday, April 11, 2021
HomeUncategorized7-coach heritage train carrying two passengers for 47 km journey on Solan-Shimla...

7-coach heritage train carrying two passengers for 47 km journey on Solan-Shimla rail route | सोलन-शिमला रेलमार्ग पर दो यात्रियों को लेकर 47 किलोमीटर तक आई 7 कोच वाली हेरिटेज ट्रेन; चंडीगढ़ में 9 ट्रेनों से आए 100 स्टूडेंटस


चंडीगढ़5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर 9 स्पेशल ट्रेनें आईं, जिसमें लगभग 100 स्टूडेंटस आए। बाकी अपनी-अपनी गाड़ियों से परीक्षा देने पहुंचे थे।

  • एनडीए एग्जाम को लेकर चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर 9 स्थानों से स्पेशल ट्रेनें आईं
  • ऐसी ही एक ट्रेन से चंडीगढ़ पहुंचे पिता और बेटे ने कहा- ट्रेन का सफर आरामदायक और सेफ होता है

कालका-शिमला हेरिटेज ट्रेन रविवार को सोलन से शिमला के बीच पांच महीने बाद चली। 47 किलोमीटर के इस सफर के लिए 7 कोच वाली ट्रेन में केवल दो यात्री थे। इसमें एनडीए का एग्जाम देने जा रहा स्टूडेंट और उसके पिता शामिल थे।

वहीं, दूसरी तरफ एनडीए एग्जाम को लेकर चंडीगढ़ रेलवे स्टेशन पर 9 स्थानों से स्पेशल ट्रेनें आईं। जानकारी के अनुसार, इन 9 ट्रेनों में केवल 100 स्टूडेंट्स आए, जबकि हजारों स्टूडेंट्स के आने की उम्मीद थी।

कोरोना के कारण छात्र एग्जाम देने अपनी गाड़ियों से पहुंचे

रविवार काे देश के अलग-अलग हिस्सों में नेशनल डिफेंस एकेडमी यानी एनडीए की परीक्षा थी। कोरोना संक्रमण के डर के कारण छात्र अपनी-अपनी गाड़ियों से ही एग्जाम देने पहुंचे। छात्रों को परेशानी न हो, इसलिए रेलवे ने स्पेशल ट्रेनें चलाई थीं।

दो यात्रियों को लेकर सोलन से शिमला पहुंची हेरिटेज ट्रेन।

दो यात्रियों को लेकर सोलन से शिमला पहुंची हेरिटेज ट्रेन।

हेरिटेज ट्रेन में सफर करने वाले सुशील दत्त ने बताया कि सुरक्षित और आरामदायक यात्रा के लिए उसने ट्रेन चुनी। उन्होंने कहा कि पांच महीने बाद शुरू हुई ट्रेन में यात्रा करने का अनुभव बिल्कुल अलग था।

एनडीए का एग्जाम देने सोलन से शिमला ट्रेन पर गए स्टूडेंट ने कहा- यात्रा आरामदायक थी।

एनडीए का एग्जाम देने सोलन से शिमला ट्रेन पर गए स्टूडेंट ने कहा- यात्रा आरामदायक थी।

चंडीगढ़ ट्रेन से केवल 100 स्टूडेंट्स पहुंचे

रेलवे की ओर से एनडीए एग्जाम को देखते हुए काफी तैयारी की गई थी। पठानकोट, दिल्ली, गुरदासपुर, फरीदकोट, फाजिल्का, भिवानी, सिरसा, सहारनपुर और ऊना से स्पेशल ट्रेनें चलाई थी। इन ट्रेनों में उन्हीं को टिकट दी गई, जिनके पास परीक्षा प्रवेश पत्र था।

0



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments