रागी स्किन को लम्बे समय तक यंग बनाए रखने के लिए अद्भुत तरीके से काम करता है.


रागी स्किन को लम्बे समय तक यंग बनाए रखने के लिए अद्भुत तरीके से काम करता है.

सर्दियों में इस्तेमाल में लाया जाने वाला रागी का आटा किसी भी अन्य अनाज की तुलना में कैल्शियम से भरपूर होता है.

सर्दियों के मौसम में कई प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने के लिए हेल्दी फूड्स का सेवन करना चाहिए. इन स्वास्थ्य समस्याओं में सर्दी-खांसी, वजन बढ़ना, गले में खराश होना और अधिक ठंड की वजह से कोल्ड स्ट्रोक का खतरा होना शामिल है. आप भले ही अपने शरीर को कपड़ों से पूरी तरह ढक कर रखें लेकिन फिर भी सर्दी का असर किसी न किसी रूप में शरीर पर जरूर होता है. इसलिए लोग अपनी डाइट में कई तरह के फूड्स को शामिल करते हैं, जो शरीर को गर्म रख सकें. ऐसी ही खाद्य सामग्रियों में से एक है रागी. आइए जानते हैं रागी के हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में.

कैल्शियम से भरपूर
सर्दियों में इस्तेमाल में लाया जाने वाला रागी (Ragi) का आटा किसी भी अन्य अनाज की तुलना में कैल्शियम (Calcium) से भरपूर होता है. एक रिसर्च के अनुसार 100 ग्राम रागी में 344 मिलीग्राम कैल्शियम होता है. कैल्शियम हड्डियों और दांतों के लिए बहुत जरूरी होता है. साथ ही हड्डियों से संबंधित कई बीमारियों जैसे ऑस्टियोपोरोसिस की रोकथाम के लिए भी यह जरूरी है. कैल्शियम से भरपूर होने की वजह से रागी का सेवन गर्भवती महिलाओं और बच्चों के लिए बहुत ही अच्छा होता है. सर्दियों में आप अपने डाइट में रागी से बने फूड्स को जरूर शामिल करें.

डायबिटीज को करे कंट्रोलरागी फाइबर से भरपूर होता है और ये ग्लाइसेमिक इंडेक्स फूड क्रेविंग को कम करता है. यह पाचन गति को बनाए रखता है जिस कारण रागी ब्लड शुगर को नियंत्रित रखने में मदद करता है. डायबिटीज के रोगियों को सर्दियों के मौसम में रागी के आटे से बनी रोटियां खाने की सलाह दी जाती है. एक स्टडी के अनुसार अपनी डाइट में रागी को सुबह या दोपहर के खाने में जरूर शामिल करें.

इसे भी पढ़ेंः खांसी से हैं परेशान, तो जरूर अपनाएं ये घरेलू उपाय

एंटी एजिंग की तरह करे काम
रागी स्किन को लम्बे समय तक यंग बनाए रखने के लिए अद्भुत तरीके से काम करता है. इसमें मौजूद मेथिओनिन और लाइसिन जैसे जरूरी अमीनो एसिड तत्व स्किन के ऊतकों को झुर्रियों और एजिंग के लक्षणों से बचाते हैं. इसके अलावा रागी शरीर में विटामिन डी की कमी को भी पूरा करता है.

एनीमिया से बचाए
रागी प्राकृतिक आयरन का एक अच्छा स्रोत है. यह एनीमिया के रोगियों के लिए और कम हीमोग्लोबिन स्तर वाले लोगों के लिए भी एक वरदान की तरह काम करता है. आप रागी का इस्तेमाल शरीर में आयरन की पूर्ति के लिए कर सकते हैं. इसका इस्तेमाल आटे के रूप में, अंकुरित करके या फिर कोई अन्य डिश के रूप में किया जा सकता है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here