स्ट्रॉबेरी में सोडियम, फैट, कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है और ये लो कैलोरी फूड होता है.


सर्दियों (Winter) में बाजारों में फलों और सब्जियों की भरमार लग जाती है. हमेशा से ये कहा जाता है कि मौसमी फल (Seasonal Fruits) जरूर खाएं क्योंकि इसमें कई सारे गुण होते हैं जो हेल्थ के लिए बहुत अच्छे साबित हो सकते हैं. सर्दियों में ही स्ट्रॉबेरी (Strawberry) की भी भरमार होती है और दिसंबर से फरवरी तक के महीने में ये खूबसूरत और स्वादिष्ट रसेदार बेरीज आपके पास पहुंच जाती हैं. सर्दियों में अगर आप अपनी डाइट (Diet) में स्ट्रॉबेरी को शामिल करेंगे तो ये शरीर में कई तरह के मिनरल्स और विटामिन की कमी को पूरा कर सकती है. Webmd की खबर के अनुसार स्ट्रॉबेरी खाने से हेल्थ को कई तरह से फायदे पहुंचते हैं.

क्या हैं स्ट्रॉबेरी खाने के फायदे?

– स्ट्रॉबेरी में विटामिन और फाइबर की मात्रा ज्यादा होती है. इसमें भारी मात्रा में एंटी-ऑक्सिडेंट्स भी होते हैं जिन्हें पोलीफेनॉल्स कहा जाता है.

– स्ट्रॉबेरी में सोडियम, फैट, कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है और ये लो कैलोरी फूड होता है.- स्ट्रॉबेरी में मैग्नीज, पेटौशियम, विटामिन सी, विटामिन B9 सब कुछ होता है.

– ये ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने के लिए भी अच्छी होती है और इसलिए स्ट्रॉबेरी को सीजन में जरूर खाना चाहिए.

-अगर आप ताज़ा स्ट्रॉबेरी ले सकें तो ये अच्छा होगा क्योंकि इससे ही दिल की बीमारी और डायबिटीज से छुटकारा मिल सकता है.

-स्ट्रॉबेरी खाने का तरीका भले ही कुछ भी हो इसे अपनी डाइट में शामिल जरूर करना चाहिए.

इसे भी पढ़ेंः ठंड के मौसम में छुहारे खाने से होंगे ये बड़े फायदे, आज ही करें डाइट में शामिल

किस तरह अपनी डाइट में शामिल करें स्ट्रॉबेरी
स्ट्रॉबेरी को अपनी डाइट में शामिल करना मुश्किल नहीं है. इसे ऐसे ही खा सकते हैं या फिर अपनी फ्रूट सलाद का हिस्सा बना लें. इसी के साथ, आप इसका फ्रेश जैम भी बना सकते हैं. स्ट्रॉबेरी जैम घर पर ही बनाएं तो अच्छा रहेगा क्योंकि इसमें प्रिजर्वेटिव्स कम रहेंगे. इसके अलावा आप स्ट्रॉबेरी को स्मूदी में डालकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं.

फायदे और नुकसान
स्ट्रॉबेरी खाने के फायदे बहुत हैं और इसके कई नुकसान भी हैं. इसे आप जरूरत से ज्यादा न खाएं क्योंकि इसमें शुगर की मात्रा ज्यादा रहती है और साथ ही साथ इसे अगर बहुत ज्यादा खाया जाए तो ब्लड शुगर लेवल बढ़ सकता है. स्ट्रॉबेरी एक ऐसा फल है जिसमें पेस्टिसाइड्स की मात्रा भी ज्यादा हो सकती है. ये इसपर निर्भर करता है कि उसे उगाया कैसे गया है. स्ट्रॉबेरी का इस्तेमाल आप सीमित ही करें और इसे वैसे ही खाएं.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here