अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने माफी देने का सिलसिला शुरू कर दिया है. उन्होंने अपने समधी चार्ल्स कुशनर को बुधवार को माफ़ कर दिया है. इस बार माफी देने की अपनी नई खेप में उन्होंने छब्बीस लोगों को शामिल किया है. चार्ल्स कुशनर, ट्रंप के दामाद जेड कुशनर के पिता हैं. उनपर बहुत ही गंभीर आरोप थे. उन्होंने 2004 के चुनाव में साठ लाख डालर का चुनावी चंदा डेमोक्रेटिक पार्टी को दिया था. यहांं तक तो ठीक था क्योंकि अमरीका में किसी राजनीतिक पार्टी को चंदा देने की रक़म की कोई सीमा नहीं है.

हालांकि किसी व्यक्ति को दो हज़ार डालर से ज़्यादा चुनावी चंदा नहीं दिया जा सकता.चंदा देने के बाद समधी साहब ने जो आपराधिक कृत्य किया वह यह था कि उन्होंने इस साठ लाख डालर को अपने खाते में व्यापार पर किया गया खर्च दिखा दिया. यह गलत है और आपराधिक कृत्य है.उनके ऊपर मुक़दमा चला और उनको दो साल की सज़ा हो गयी. इसके अलावा उन्होंने किसी वेश्या को व्यापारिक लाभ के लिए इस्तेमाल किया था.

 इस तरह की हरकत भी कानूनन जुर्म
व्यापारिक लाभ के लिए इस तरह की हरकत भी कानूनन जुर्म है.इस मामले में भी कानूनी कारवाई हुयी. इन दो मामलों में बीस जनवरी 2021 तक विराजने वाले चार्ल्स कुशनर के समधी डोनाल्ड ट्रंप ने उनको माफी दे दी. इस माफी के पहले उन्होंने उन लोगों माफी दी जो उनके उलटे सीधे काम में उनके साथी रहे हैं. नई माफ़ी की लिस्ट में रोजर स्टोन और पॉल मनाफोर्ट भी शामिल हैं.यह दोनों कई अपराधों में दोषी पाए जा चुके हैं.मनाफोर्ट तो नज़रबंदी की सज़ा भी भोग रहे हैं.

इन माफीनामों का मुख्य सन्देश यह है कि ट्रंप अब चुनाव में हार को स्वीकार करने मन बना चुके हैं.अभी उनको उम्मीद थी कि न्यायपालिका की मदद से वे हारा हुआ चुनाव पलट देंगे लेकिन अब ऐसा होता नहीं दिख रहा है. उन्होंने अमरीका के पांच बैटिलग्राउंड राज्यों पेंसिलवानिया ,एरिज़ोना ,विस्कासिन, जार्जिया और मिशिगन में चुनावी धांधली के मुक़दमे दायर करवाए थे.हर जगह से उनके खिलाफ फैसले आते रहे.एक विस्कासिन बचा था. विस्कसिन राज्य का फैसला आज ही आया है. न्यायपालिका से बहुत उम्मीद थी क्योंकि उन्होंने फेडरल सुप्रीम कोर्ट में एक जज हड़बड़ी में इसी योजना के तहत भर्ती किया था कि ज़रूरत पड़ने पर उनके पक्ष में फैसला आ जाएगा लेकिन उन्हें वहां भी हार ही मिली. अमरीका में सभी राज्यों के अलग अलग चुनावी क़ानून होते हैं और अलग तरह की न्याय प्रणाली होती है.

 37 राज्यों में जज भी चुनाव लड़कर होते हैं पदासीन
मसलन अमरीका के पचास राज्यों में से 37 राज्यों में जज भी चुनाव लड़कर पदासीन होते हैं. वे बाकायदा पार्टी के टिकट पर चुनकर आते हैं. ट्रंप की नवीनतम कानूनी हार विस्कासिन राज्य में हुई है. वहां के जिस जज ने उनके खिलाफ फैसला दिया है वह ट्रंप की पार्टी ,रिपब्लिकन पार्टी के टिकट पर चुनकर आया था. जब उसने कानून के हिसाब से सही फैसला दे दिया तो ट्रम्प महोदय उसको भी गाली देने लगे. उसके खिलाफ ट्वीट किया और उनके समर्थकों ने उसके खिलाफ सोशल मीडिया पर अभियान शुरू कर दिया. अब लगता है कि वे अपनी हार को न्यायपालिका की मदद से जीत में बदलवाने की उम्मीद छोड़ चुके हैं. जब ज़्यादातर अमरीकियों ने यह मान लिया है कि डोनाल्ड ट्रंप चुनाव हार चुके हैं.न्यायपालिका ने उनको साफ़ बता दिया है कि उनकी सनक के आधार पर फैसला नहीं दिया जा सकता , कानून ही किसी भी फैसले की बुनियाद होता है.

डोनाल्ड ट्रंप जिस तरह से लोगों को माफी दे रहे हैं उससे संकेत आने लगे हैं अब हठधर्मी का उनका हौसला पस्त हो चुका है.और अब वे राष्ट्रपति पद छोड़ने के बारे में विचार कर रहे हैं. अमरीकी संविधान के संस्थापकों, खासकर अलेक्ज़ेंडर हैमिल्टन ने यह नियम बनाया था कि अगर राष्ट्रपति को लगता है कि न्यायपालिका में किसी के साथ अन्याय हो गया है या किसी को उसके अपराध के अनुपात से ज्यादा सज़ा हो गयी है तो अमरीकी राष्ट्रपति उसको माफी दे सकता है.

अपने संस्थापकों के इसी प्रावधान को इस्तेमाल करके डोनाल्ड ट्रंप लगातार अपने करीबी लोगों को माफी दे रहे हैं. राष्ट्रपति हैमिल्टन के समय से ही यह रिवाज़ है कि राष्ट्रपति अपराधियों को माफी दे देता है.जिसको माफी मिल जाती है उसके ऊपर उसी केस में दोबारा मुक़दमा नहीं चलाया जा सकता है. लेकिन बाद के कुछ राष्ट्रपतियों ने जघन्य अपराधियों को भी माफी दी. इस सिलसिले में रिचर्ड निक्सन का नाम लिया जाता है. वे सत्तर के दशक में अमरीका के राष्ट्रपति थे. उन्होंने तरह तरह के अपराध किये थे. उनके ऊपर वाटरगेट स्कैंडल के कारण महाभियोग की तैयारी हो चुकी थी. लेकिन उन्होंने अपने

उपराष्ट्रपति जेराल्ड फोर्ड से सौदा किया
उपराष्ट्रपति जेराल्ड फोर्ड से सौदा किया कि वे इस्तीफ़ा दे देंगें और अमरीका के संविधान के अनुसार फोर्ड बिना कोई चुनाव लडे राष्ट्रपति बन जायेगें. उसके बदले में उनको राष्ट्रपति के रूप में रिचर्ड निक्सन के अपराधों के लिए माफी देनी पड़ेगी. ऐसा ही हुआ और फोर्ड अगस्त 1974 से जनवरी 1977 तक राष्ट्रपति रहे.

निक्सन की तरह ही ट्रंप भी अपराधी प्रवृत्ति के राष्ट्रपति हैं लेकिन जसी तरह से उन्होंने अपने ख़ास लोगों को माफी देने का सिलसिला शुरू कर दिया है ,उससे लगता है कि वे निक्सन का भी रिकार्ड तोड़ेंगे.. अंधाधुंध माफी देने के चक्कर में वे ऐसे अपराधियों को भी माफी दे रहे हैं जिनके अपराध जघन्य हैं और कुछ मामलों में तो अपराधी ने अपने जुर्म को कोर्ट के सामने कबूल भी कर लिया है.

क्या राष्ट्रपति अपने आपको माफ़ कर सकते हैं?
इन माफियों के सिलसिले में सबसे ज़रूरी बिंदु है कि क्या राष्ट्रपति ऐसे अपराधों के लिए भी माफी दे सकते हैं जो अपराध हुए ही न हों. जानकर बताते हैं कि ट्रंप और उनके क़रीबी लोगों ने इतने अपराध किए हैं कि उनके ऊपर मुक़दमा चलना तो तय है. इमकान है कि कानून अपना काम करेगा और अगर कानून इमानदारी से काम करता है तो ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप ,दामाद और उनके सबसे करीबी वकील रूडी जुलियानी पर मुक़दमा ज़रूर चलेगा. अभी इन लोगों पर मुकदमा दायर नहीं हुआ है. बहस इसी विषय पर हो रही है कि क्या राष्ट्रपति एडवांस में किसी को माफी दे सकते हैं. एक कानूनी चर्चा और भी हो रही है कि क्या राष्ट्रपति अपने आपको माफ़ कर सकते हैं. उनके ऊपर तो कई केस दर्ज भी हैं.

रिचर्ड निक्सन ने तो अपने आप को माफ़ नहीं किया था क्योंकि माफी लेने के लिए उन्होंने अपने उपराष्ट्रपति को राष्ट्रपति बनाकर माफी हासिल की थी. बहरहाल राष्ट्रपति ट्रंप की माफी देने की कारस्तानी के बाद लोगों को लग रहा है कि लगता है कि ट्रंप को भी इस बात का एहसास हो चुका है कि उनको अब तो जाना ही पडेगा और पद से हटने के बाद उनको मुक़दमों का सामना भी करना पड़ेगा. अगर उनकी खुद को दी गयी माफी को जायज़ भी मान लिया जाएगा तो भी राष्ट्रपति की माफी केवल उन्हीं मामलों के लिए होती है जो फेडरल न्याय क्षेत्र में होते हों. राज्यों के मामलों के लिए राष्ट्रपति किसी को माफी नहीं दे सकते. डोनाल्ड ट्रंप के ऊपर न्यूयॉर्क राज्य में टैक्स चोरी के कुछ मामले दर्ज हैं. उनमें किसी माफी का प्रावधान नहीं है. (डिसक्लेमर: यह लेखक के निजी विचार हैं.)

ब्लॉगर के बारे में

शेष नारायण सिंहवरिष्ठ पत्रकार

वरिष्ठ पत्रकार और कॉलमिस्ट. देश और विदेश के राजनीतिक और सामाजिक मुद्दों पर गहरी पकड़ है. कई अखबारों के लिए कॉलम लिखते रहे हैं.

और भी पढ़ें





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here