Spread the love


विश्व बैंक ने कोरोनावायरस के टीके और इलाज के लिए 12 अरब डॉलर राशि मंजूरी की है. (प्रतीकात्मक तस्वीर )

विश्व बैंक ने कोरोना वायरस का टीका (Coronavirus Vaccine) खरीदने, वितरित करने, जांच और उपचार में विकासशील देशों की मदद करने के लिए 12 अरब डॉलर (Twelve Billion Dollar) की राशि को मंजूरी दी है, ताकि एक अरब लोगों के टीकाकरण में मदद मिल सके.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 14, 2020, 2:31 PM IST

वाशिंगटन. विश्व बैंक ने कोरोना वायरस का टीका (Coronavirus Vaccine) खरीदने, वितरित करने, जांच और उपचार में विकासशील देशों की मदद करने के लिए 12 अरब डॉलर (Twelve Billion Dollar) की राशि को मंजूरी दी है, ताकि एक अरब लोगों के टीकाकरण में मदद मिल सके. विश्व बैंक ने मंगलवार रात एक बयान में कहा कि यह 12 अरब डॉलर की राशि कोविड-19 वैश्विक महामारी से निपटने में विकासशील देशों (Developing Countries) की मदद करने के लिए विश्व बैंक समूह के 160 अरब डॉलर के पैकेज का हिस्सा है.

‘111 देशों में आपात कार्रवाई कार्यक्रम पहुंचा’

विश्व बैंक ने कहा कि कोविड-19 आपात कार्रवाई कार्यक्रम 111 देशों में पहले ही पहुंच रहे हैं.
उसने कहा कि विकासशील देशों में नागरिकों को भी कोविड-19 के सुरक्षित एवं प्रभावी टीके तक पहुंच की आवश्यकता है.ये भी पढ़ें: US: गर्वनर कैंडिडेट पर आरोप, 36 साल पूर्व लड़की का किया किडनैप और अब मर्डर 

ट्रंप ने रैली में कहा, अब मुझमें रोग प्रतिरोधी क्षमता है, नीचे आकर किसी को भी चूम सकता हूं 

विश्व बैंक के अध्यक्ष डेविड मालपास ने एक बयान में कहा कि हम कोविड-19 आपातकाल से निपटने के अपने दृष्टिकोण को विस्तार दे रहे हैं, ताकि विकासशील देशों तक टीकों की उचित और समान पहुंच सुनिश्चित हो सके.

एली लिली और जॉनसन एंड जॉनसन ने ट्रायल रोकी

अमेरिका की कंपनी एली लिली के कोरोनोवायरस के लिए अपने प्रमुख मोनोक्लोनल एंटीबॉडी उपचार के अंतिम चरण के परीक्षण पर रोक लगा दी है. यह रोक संभावित सुरक्षा चिंताओं के चलते लगाई गई है. एली लिली कंपनी ने इसकी पुष्टि कर दी है. कंपनी की प्रवक्ता मॉली मैक्कुली ने कहा कि लिली के लिए के सुरक्षा सबसे महत्वपूर्ण है. हम इस बात से अवगत हैं कि, अत्यधिक सावधानी के चलते ACTIV-3 स्वतंत्र डेटा सुरक्षा निगरानी बोर्ड (DSMB) ने नामांकन को लेकर इसे रोकने की सिफारिश की है. वहीं, जॉनसन रिसर्च एंड डेवलपमेंट आर्म के ग्लोबल हेड डॉ. मथाई मैमन ने कॉन्फ्रेंस कॉल में कहा कि कंपनी के पास अभी बहुत कम जानकारी है और एक ट्रायल के दौरान एक सहभागी का बीमार हो जाने से इसके परीक्षण हम फिलहाल रोक लगा रहे हैं.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here