Sunday, April 11, 2021
HomeUncategorizedरिपोर्ट्स में दावा- भारत-चीन के बीच पिछले हफ्ते पैंगॉन्ग झील इलाके में...

रिपोर्ट्स में दावा- भारत-चीन के बीच पिछले हफ्ते पैंगॉन्ग झील इलाके में 100-200 राउंड गोलियां चलीं, दोनों देशों के बीच मॉस्को समझौते से पहले यह घटना हुई


  • Hindi News
  • National
  • India China Moscow PacT | India China Ladakh Standof Latest News Updates | Indian Army And People Liberation Army Fired 100–200 Rounds On Pangong TSO

लद्दाख5 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

एलएसी पर भारत-चीन के बीच 45 साल में पहली बार फायरिंग हुई है। लद्दाख के कई विवादित इलाकों में दोनों के सैनिक 300 मीटर से भी कम दूरी पर तैनात हैं। (फाइल फोटो)

  • सीमा विवाद सुलझाने के लिए भारत-चीन के विदेश मंत्रियों के बीच 10 सितंबर को मॉस्को में 5 पॉइंट पर सहमति बनी थी
  • 29-30 अगस्त की रात चीन के सैनिकों ने पैंगॉन्ग सो झील इलाके में एक पहाड़ी पर कब्जे की कोशिश की थी

भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की 10 सितंबर को मॉस्को में हुई मीटिंग से पहले लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच फायरिंग हुई थी। अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस ने सूत्रों के हवाले यह रिपोर्ट दी है। इसके मुताबिक पूर्वी लद्दाख में पैंगॉन्ग सो झील के उत्तरी छोर पर दोनों तरफ से 100 से 200 राउंड हवाई फायर हुए थे। यह घटना रिजलाइन पर हुई थी, जहां फिंगर-3 और फिंगर-4 के इलाके मिलते हैं।

इस बीच, चीन से जारी सीमा विवाद के बीच सरकार ने बुधवार शाम सर्वदलीय बैठक बुलाई है। कांग्रेस इस मसले पर संसद में चर्चा की मांग कर रही है। मंगलवार को बोलने न दिए जाने पर कांग्रेस ने सदन से वॉकआउट किया था।

कई इलाकों में भारत-चीन के सैनिकों में सिर्फ 300 मीटर का फासला
रिपोर्ट के मुताबिक सितंबर के पहले हफ्ते में पैंगॉन्ग सो झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर पर काफी मूवमेंट हुए थे। कई बार फायरिंग भी हुई। तनाव अभी बरकरार है। चुशूल सेक्टर में कई जगहों पर भारत और चीन के सैनिक एक-दूसरे से सिर्फ 300 मीटर की दूरी पर तैनात हैं। इस बीच दोनों देशों के आर्मी अफसरों के बीच फिर से बातचीत होनी है।

इससे पहले 7 सितंबर को भारत-चीन ने मुकपारी हाइट्स इलाके में फायरिंग की घटना पर बयान जारी किए थे। बताया गया कि एलएसी पर 45 साल बाद गोलियां चली हैं। दोनों ने इसके लिए एक-दूसरे को जिम्मेदार ठहराया। लेकिन, पैंगॉन्ग इलाके में फायरिंग को लेकर अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

चीन ने 5 दिन में 3 बार घुसपैठ की कोशिश की थी
29-30 अगस्त की रात चीन के सैनिकों ने पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी छोर की पहाड़ी पर कब्जे की कोशिश की थी, लेकिन भारतीयों जवानों ने नाकाम कर दी। उसके बाद आर्मी अफसरों की बातचीत का दौर शुरू हुआ, लेकिन चीन ने अगले 4 दिन में 2 बार फिर घुसपैठ की कोशिश की।

शांति से सीमा विवाद सुलझाने के लिए 10 सितंबर को मॉस्को में भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक हुई थी। इसमें डिस-एंगेजमेंट समेत 5 पॉइंट्स पर सहमति बनी थी। लेकिन, चीन बार-बार अपनी बात से पीछे हट रहा है और विवादित इलाकों में लगातार मूवमेंट कर रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी मंगलवार को संसद में कहा कि चीन ने एलएसी पर सैनिक और गोला-बारूद जमा कर रखे हैं, लेकिन भारत भी तैयार है।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं…

1. चीन से विवाद पर सरकार का बयान:राजनाथ बोले- चीन को गलवान की झड़प में भारी नुकसान हुआ था, वह अब बॉर्डर पर भारी तादाद में सेना और गोला-बारूद जमा कर रहा

2. लद्दाख में तनाव कम करने की कोशिश:भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक में 5 पॉइंट पर सहमति; बातचीत जारी रखते हुए सैनिक हटेंगे, माहौल बिगाड़ने वाली कार्रवाई नहीं होगी

0



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments