उत्तर भारत में ठंड के बीच हिमाचल प्रदेश के दूरदराज इलाकों में शुक्रवार को फिर बर्फबारी हुई। इसके चलते उत्तर भारत में तेज ठंडी हवाओं के चलने का सिलसिला जारी है। राजस्थान के माउंट आबू में तो न्यूनतम तापमान 1 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच चुका है। वहीं 7 शहरों में रात का पारा 10 डिग्री सेल्सियस के नीचे रहा है। दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ में भी कई इलाकों में बारिश की वजह से ठंड बढ़ी है। वैज्ञानिकों का कहना है कि यह दक्षिण भारत में आए निवार चक्रवात के असर के चलते हुआ।

दूसरी तरफ पहाड़ों पर बर्फबारी की वजह से चली ठंडी हवाओं से दिल्ली-एनसीआर में वायु गुणवत्ता का स्तर भी सुधरा है। बताया गया है कि एक दिन पहले ही दिल्ली का एक्यूआई 137 रहा, जबकि नोएडा में यह 125 की रेंज पर पहुंच गया है। वहीं, आसपास के इलाकों में भी एक्यूआई 125-175 के बीच दर्ज हुआ।

दूसरी तरफ मौसम विभाग ने अनुमान जताया है कि अगले दो दिनों में उत्तर प्रदेश, राजस्थान और दिल्ली-एनसीआर के कुछ इलाकों में बारिश देखने को मिल सकती है। बता दें कि राष्ट्रीय राजधानी में अधिकतम तापमान 27 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य से एक डिग्री सेल्सियस अधिक रहा है, जबकि न्यूनतम तापमान 10.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो इस मौसम के हिसाब से सामान्य है। दिल्ली की वायु गुणवत्ता भी हवा की गति अनुकूल होने की वजह से ‘मध्यम’ श्रेणी में है तथा इसमें और सुधार की संभावना है।

हिमाचल में कुफरी और कल्पा में ताजा बर्फबारी हुई जबकि केलोंग मे न्यूनतम तापमान शून्य से 9.9 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। किन्नौर जिले के कल्पा में 17 सेमी और कुफरी में एक सेमी बर्फबारी दर्ज हुई। कश्मीर में कड़ाके की ठंड पड़ रही है और केंद्रशासित प्रदेश के अनंतनाग जिले का पर्यटन स्थल पहलगाम शुक्रवार को सबसे ठंडा स्थान रहा जहां तापमान शून्य से 6.5 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया।

वहीं पूर्वी क्षेत्र में मौसम शुष्क बना रहा। दक्षिण भारत में क्षेत्रीय मौसम कार्यालय ने बताया कि बंगाल की खाड़ी में 30 नवंबर को निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की वजह से तमिलनाडु और पुडुचेरी में एक दिसंबर से और बारिश हो सकती है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here