Spread the love


यूपी-बिहार में जीत के बाद केदारनाथ के दरबार में पहुंचे CM योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कहा कि वे 11-12 वर्षों के बाद केदारनाथ धाम आये हैं और यहां आकर वे अपने को सौभाग्यशाली मानते हैं.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 16, 2020, 7:19 AM IST

लखनऊ. बिहार विधानसभा चुनाव और उत्तर प्रदेश उपचुनाव में बीजेपी की सफलता के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) उत्तराखंड की दो दिवसीय यात्रा पर हैं. सीएम योगी ने उत्तराखंड के केदारनाथ धाम में बाबा के दर्शन किए. केदारनाथ धाम के कपाट बंद होने के बाद सोमवार को सीएम योगी बद्रीनाथ धाम जाएंगे. वह यूपी सरकार के पर्यटक आवास गृह का शिलान्यास करेंगे. मुख्यमंत्री के निर्देश पर उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग की ओर से चमोली जिले के तहसील जोशीमठ में स्थित श्रीबद्रीनाथ धाम में एक एकड़ भूमि पर 40 कमरों के पर्यटक आवास गृह का निर्माण कराया जा रहा है. उनके साथ उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत भी मौजूद रहेंगे.

इसकी लागत करीब 11 करोड़ है. इसमें 40 कमरों के साथ रेस्टोरेंट, कॉन्फ्रेंस हाल, डारमेट्री और पार्किंग की सुविधा होगी. इस भवन का निर्माण गढ़वाल (उत्तराखंड) शैली के आर्किटेक्चर और ग्रीन बिल्डिंग के रूप में कराया जा रहा है. यह करीब दो साल में बनकर तैयार होगा. इसमें उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश अन्य राज्यों और विदेशों से आने वाले पर्यटक ठहर सकेंगे.

ये भी पढे़ं- कानपुर कांड पर सीएम योगी सख्‍त- कड़ी कार्रवाई के आदेश, पीड़ित परिवार को 5 लाख की मदद

इससे पहले रविवार को यात्रा पर निकलने से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंदिर की तस्वीरें ट्वीट कर लिखा देवभूमि उत्तराखंड के दो दिवसीय प्रवास के मध्य श्री केदारनाथ एवं श्री बद्रीनाथ धाम की यात्रा का विचार अलौकिक सुख की अनुभूति प्रदान कर रहा है. देवाधिदेव महादेव के धाम पर उनके दर्शन का सौभाग्य मिलना उन्हीं की कृपा का प्रतीक है. भगवान भोलेनाथ का आशीर्वाद हम सब पर बना रहे.12 वर्षों के बाद पहुंचे केदारनाथ धाम 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि वे 11-12 वर्षों के बाद केदारनाथ धाम आये हैं और यहां आकर वे अपने को सौभाग्यशाली मानते हैं. उन्होंने कहा, यही आस्था भारत को भारत बनाने में मदद करती है. योगी आदित्यनाथ ने 2013 की त्रासदी के बाद किए जा रहे पुनर्निर्माण कार्यों की प्रशंसा करते हुए कहा कि इससे श्रद्धालुओं के विश्वास की बहाली के साथ ही भारत की अस्मिता, सांस्कृतिक केंद्रों और मानबिंदुओं की पुनर्स्थापना भी हुई है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here