Spread the love


छापेमारी की कार्रवाई के दौरान लाखों रुपये के पटाखे पुलिस ने बरामद किए हैं.

मेरठ पुलिस (Meerut Police) ने पटाखों (Firecrackers) की एक बड़ी खेप बरामद की है. इस समय मेरठ पुलिस ‘ऑपरेशन पटाखा’ चला रखा है.

मेरठ. उत्‍तर प्रदेश की मेरठ पुलिस (Meerut Police) ने छापा मारकर पटाखों (Firecrackers)की एक बड़ी खेप बरामद की है. इस दौरान उसने एक शख्स को गिरफ्तार भी कर लिया गया है. हालांकि पुलिस की सख्‍ती के बावजूद पटाखेबाज अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहे हैं. यही नहीं, पटाखों पर बैन के चलते मेरठ पुलिस ‘ऑपरेशन पटाखा’ चलाकर ऐसे लोगों पर शिकंजा कस रही है.

व्हाट्सऐप पर बिक रहे हैं पटाखे
दिल्ली एनसीआर में पटाखे बेचने पर रोक लगा दी गई है, जिसके बाद अब पटाखे व्हाट्सऐप पर बिक रहे हैं. पुलिस ने छापा मारकर पटाखों की एक बड़ी खेप बरामद की है जिसके बाद पटाखों के अवैध भंडारण के मामले में एक आदमी को गिरफ्तार भी कर लिया गया है. इस बाबत सीओ अरविंद चौरसिया ने थाना लिसाड़ी गेट क्षेत्र में पटाखों के गोदाम पर छापा मारा है. छापेमारी की कार्रवाई के दौरान लाखों रुपए के पटाखे पुलिस ने बरामद किए हैं. यह पटाखे दीपावली पर भारी मुनाफे के साथ लोगों को बेचे जाने थे और इसको बेचने के लिए मुनाफाखोरों ने व्हाट्सऐप ग्रुप बना रखे हैं. यही वजह है कि जिन लोगों को पटाखे लेने हैं वह ऐसे लोगों के संपर्क में आते हैं और व्हाट्सऐप पर अपनी डिमांड की लिस्ट भेज देते हैं और फिर जिसके बाद पैकेट बनाकर उन लोगों का कंसाइनमेंट भिजवा दिया जाता है और पैसे ट्रांसफर करा लिए जाते हैं. यह गोरखधंधा मेरठ में चल रहा था, क्योंकि हाल ही में मेरठ में पटाखा बेचने पर बैन लगा दिया गया है. लेकिन उसके बावजूद भी लोग कानून का पालन करने को तैयार नहीं हैं.

गिरोह के अन्य सदस्यों तलाश में जुटी पुलिस

बहरहाल, मेरठ की थाना लिसाड़ी गेट पुलिस ने छापा मारकर बड़ी कार्रवाई को अंजाम दिया है और उसने पांच लाख के पटाखे बरामद किए गए हैं. साथ ही एक आरोपी को गिरफ्तार भी कर लिया गया है. छानबीन के दौरान जब व्हाट्सऐप के ग्रुप का खुलासा हुआ तो पुलिस के भी होश फाख्ता हो गए. पुलिस छानबीन के दौरान पता लगा कि पटाखे व्हाट्सऐप के जरिए चोरी छुपे बेचे जा रहे हैं. फिलहाल पुलिस इस गिरोह के अन्य सदस्यों की भी तलाश में जुटी है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here