Saturday, July 24, 2021
HomeAjab-Gajabमिलिए कलियुग की 'कुंभकर्ण'से, श्राप से नहीं, इस बीमारी के कारण हो...

मिलिए कलियुग की ‘कुंभकर्ण’से, श्राप से नहीं, इस बीमारी के कारण हो गया है बुरा हाल


इंडोनेशिया में रहने वाली 17 साल की एचा 13 दिनों तक नहीं जागती. इस वजह से उसे कलियुग का कुंभकर्ण कहा जाता है.

इंडोनेशिया (Indonesia) में रहने वाली 17 साल की एचा (Echa) को कलियुग की कुंभकर्ण कहा जा सकता है. एचा अगर एक बार सो जाती है तो लगातार कई दिनों तक नहीं जागती. एचा के नाम लगातार 13 दिन तक सोने का रिकॉर्ड है. उसे रियल लाइफ स्लीपिंग ब्यूटी (Real Life Sleeping Beauty) भी कहा जाता है.

आपने रामायण (Ramayan) में कुंभकर्ण के विषय में देखा-सुना होगा. रावण का भाई कुंभकर्ण अगर एक बार सो जाता था तो कई-कई दिनों-महीनों तक नहीं जागता था. उसे उठाने के लिए काफी मेहनत करनी पड़ती थी. कुंभकर्ण की ही तरह कलियुग में इंडोनेशिया की रहने वाली एचा ने चर्चा पाई, जो सोने पर कई दिनों तक नहीं जागती है. एचा को चर्चा तब मिली थी जब 2017 में एचा लगातार 17 दिन नहीं जागी थी. इसके बाद ऐसे कई मोमेंट्स आए जब एचा लंबे समय के लिए सो जाती हैं.
एक हफ्ते बाद इस हाल में उठी
हाल ही में एचा, जो इंडोनेशिया के साउथ कलीमांटन (South Kalimantan) में रहती है, सात दिन बाद सोकर उठी. एक हफ्ते बाद उठने के कारण एचा काफी कमजोर हो गई है. इतने लंबे समय तक सोए रहने के कारण एचा की हालत काफी खराब गई है. लंबे समय तक सोए रहने की वजह से एचा को काफी कमजोरी हो गई है. डॉक्टर्स ने एचा का टेस्ट करवाया जिसमें कोई बीमारी नजर नहीं आई.

नहीं पता चल पा रही वजहएचा लगातार इतने दिनों तक क्यों सोई रहती है, इसकी कोई वजह समझ में नहीं आ पाई है. डॉक्टर्स भी एचा की कंडीशन से हैरान है. लेकिन एचा की हालत से अंदाजा लगाया जा रहा है कि उसे शायद हाइपरसोमनिया है. इस बीमारी में इंसान को दिन में काफी नींद आती है और उसका ज्यादातर समय सोते हुए बीतता है. हाइपरसोमनिया (Hypersomnia) की वजह से नस से जुड़ी कई प्रॉब्लम्स हो जाती है साथ ही कई तरह के फिजिकल और इमोशनल डिस्बैलेंस भी हो जाते हैं.

सोने के दौरान ऐसा होता है रूटीन
अगर एचा एक बार सो जाती है तो उसे उठाना नामुमकिन हो जाता है. उसे नींद में ही उसके पेरेंट्स खाना खिलाते हैं, जिसे वो चबा कर खा जाती है. जब बाथरूम जाना होता है तो नींद में ही एचा बेचैन हो जाती है. उसे उठाकर पेरेंट्स बाथरूम ले जाते हैं जहां उसे पकड़कर टॉयलेट सीट पर बिठाया जाता है. अभी तक स्लीपिंग ब्यूटी सिंड्रोम का कोई इलाज नहीं मिला है. लेकिन एचा के पेरेंट्स को उम्मीद है कि जल्द उनकी बेटी ठीक हो जाएगी।







Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments