Spread the love


फोटो सौ. (रॉयटर्स)

मलेशिया (Malaysia) के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद (Mahathir Mohamad) ने पश्चिम देशों की जमकर आलोचना की है और यहां तक कह डाला है कि मुस्लिमों को फ्रांस से गुस्सा होने और पिछले नरसंहारों के लिए लाखों फ्रांसीसी लोगों की हत्या करने का अधिकार है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 29, 2020, 9:37 PM IST

कुआलालंपुर. फ्रांस इन दिनों पैगंबर मोहम्मद के कार्टून पर विवाद के बाद फ्रांस के राष्ट्रपति इम्मैन्युअल मैक्रों पर ताजा हमला मलेशिया के पूर्व प्रधानमंत्री महातिर मोहम्मद (Mahathir Mohamad) ने बोला है. मोहम्मद ने न सिर्फ फ्रांस (France) में की गईं हत्याओं को सही ठहराया है बल्कि यह तक कह डाला है कि गुस्साए मुस्लिमों को फ्रांस के लाखों लोगों को मारने का अधिकार है. बता दें कि महातिर भारत में उस वक्त आलोचना के शिकार बने थे, जब उन्होंने कश्मीर के मुद्दे पर पाकिस्तान का साथ दिया था.

कई सारे ट्वीट कर महातिर ने लिखा है कि फ्रांस में 18 साल के चेचन्याई मूल के लड़के ने एक टीचर का गला काट गिया. हमलावर इस बात से गुस्सा था कि टीचर ने पैगंबर मोहम्मद का कार्टून दिखाया था. टीचर अभिव्यक्ति की आजादी दिखाना चाहता था. उन्होंने लिखा है- ‘एक मुस्लिम के तौर पर मैं हत्या का समर्थन नहीं करूंगा लेकिन जहां मैं अभिव्यक्ति की आजादी में विश्वास करता हूं, मुझे नहीं लगता कि उसमें लोगों का अपमान करना शामिल होता है.’

फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों पर हमला बोलते हुए महातिर ने लिखा है- ‘मैक्रों यह नहीं दिखा रहे हैं कि वह सभ्य हैं. वह अपमान करने वाले स्कूल टीचर की हत्या करने पर इस्लाम और मुस्लिमों पर आरोप लगाकर पुराने विचार दिखा रहे हैं. यह इस्लाम की सीख में नहीं है.’ उन्होंने आग कह डाला, ‘हालांकि, धर्म से परे, गुस्साए लोग हत्या करते हैं. फ्रांस ने अपने इतिहास में लाखों लोगों की हत्या की है जिनमें से कई मुस्लिम थे. मुस्लिमों को गुस्सा होने और इतिहास में किए गए नरसंहारों के लिए फ्रांस के लाखों लोगों की हत्या करने का हक है.’

ये भी पढ़ें: फ्रांस में चर्च पर हमला: 3 लोगों की हत्या, महिला का सिर काटा, मेयर ने कहा- ये आतंकी हमले जैसा

‘पश्चिम के तरीकों को करते हैं कॉपी’
महातिर ने पश्चिमी मूल्यों और उनके असर की भी आलोचना की है. उन्होंने लिखा है कि हम अक्सर पश्चिम के तरीकों को कॉपी करते हैं. उनकी तरह कपड़े पहनते हैं, उनकी राजनीतिक व्यवस्था और अजीब प्रथाओं को भी अपना लेते हैं लेकिन हमारे अपने मूल्य हैं, जो नस्लों और धर्मों के बीच अलग-अलग हैं, इन्हें हमें बरकरार रखना है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here