Spread the love


मामले में जांच की जा रही है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सीबीआई (CBI) ने एक ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया है जो छोटे -छोटे मासूम बच्चों का अश्लील वीडियो बनाकर कुछ विशेष सोशल मीडिया के मार्फत उसे बेचता था. बताया जाता है कि आरोपी का कनेक्शन विदेशों तक है.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 17, 2020, 10:19 PM IST

दिल्ली. केंद्रीय जांच एजेंसी सीबीआई (CBI) ने एक ऐसे आरोपी को गिरफ्तार किया है जो छोटे -छोटे मासूम बच्चों का अश्लील वीडियो बनाकर कुछ विशेष सोशल मीडिया के मार्फत उसे बेचता था. सीबीआई के अधिकारियों के मुताबिक आरोपी का नाम रामभवन है ,जो उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) के चित्रकूट इलाके का रहने वाला है. इस आरोपी के खिलाफ पिछले काफी समय से सीबीआई को इनपुट्स मिल रहे थे ,उसके बाद सीबीआई ने इस मामले में एक विशेष टीम का गठन करके इस मामले में आरोपी रामभवन को गिरफ्तार किया है.

सीबीआई ने जब मासूम बच्चों (Sexual Abuse of children ) से जुड़े इस मामले को दर्ज किया और उसके बारे में तफ्तीश करना शुरू किया था. fसके बाद 17 नवंबर को देर शाम तक बांदा के चित्रकूट ( Chitrakoot )कई लोकेशन पर छापेमारी की गई. छापेमारी के दौरान कई कम्प्यूटर ,मोबाइल फोन , सहित कई इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों को जप्त किया गया , जिसे खांगलने का काम किया जा रहा है.

विदेशों तक कनेक्शन

छापेमारी के दौरान कई मासूम और नाबालिग लड़कियों के अश्लील  वीडियो (CSAM content ) और स्टील फोटोग्राफ बरामद हुए हैं. सीबीआई के मुताबिक, कई मासूम लड़कियों के साथ उसका  शारिरिक उत्पीड़न (physical abuse ) करने के दौरान उसका वीडियो बनाया जाता था , जिसे वो डार्कवेब के मार्फ़त उसकी बोली (Darkweb for sale ) लगाई जाती थी. छापेमारी के दौरान सीबीआई की टीम को कई पेन ड्राइव /मेमोरी कार्ड, वेब कैमरा, भी बरामद किया है. इसके साथ ही काफी संख्या में सेक्स टॉयज (several sex toys ) भी बरामद किया है. उन वीडियो को बेचने के बाद जो लाखों -करोड़ों रुपये अर्जित किया गया था ,उसमें से आठ लाख रुपये नगद बरामद किया गया है.ये भी पढ़ें: MLA Mahesh Negi Case: अब पौड़ी महिला थाना करेगी मामले की जांच, हो सकता है DNA टेस्ट

सीबीआई की टीम ने जब आरोपी रामभवन से पूछताछ किया तो ये महत्वपूर्ण जानकारी मिली कि भारत के साथ -साथ कई अन्य देशों (foreign nationals) में भी उस आरोपी का कनेक्शन है. विदेशों में उन अश्लील वीडियो की काफी मांग रही है, लिहाजा सीबीआई की टीम अब उन विदेशी आरोपियों के खिलाफ भी तफ्तीश में जुट गई है. जरूरत पड़ने पर उसके खिलाफ कार्रवाई करने के लिए सीबीआई की टीम  इंटरपोल या उस देश से संबंधित प्रशासनिक अधिकारी को खत लिख सकती है ,जिससे इस चाइल्ड पोर्न और अश्लील हरकत को अंजाम देने वालों पर लगाम लगाया जा सके.

सीबीआई इस तरह ऑनलाइन चाइल्ड सेक्सुअल के मामलों के अपराधों पर लगाम लगाने के लिए एक विशेष यूनिट में मामला दर्ज करके उसके ठोस कार्रवाई को अंजाम देती है. सीबीआई में उस विशेष यूनिट का नाम है OCSAE ( “Online Child Sexual Abuse and Exploitation Prevention/ Investigation ).जिसके तहत कई मामलों की तफ्तीश में ये यूनिट हमेशा कार्यरत रहती है.





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here