Friday, April 16, 2021
HomeSportsपीसीबी ने 240 खिलाड़ियों समेत कई अधिकारियों से कोरोना टेस्ट के पैसे...

पीसीबी ने 240 खिलाड़ियों समेत कई अधिकारियों से कोरोना टेस्ट के पैसे मांगे, बोर्ड के पास लैब और हॉस्पिटल की भी सुविधा नहीं


  • Hindi News
  • Sports
  • Cricket
  • Pakistan Cricket Condition | Pakistan Cricket Board (PCB) On Players Over Coronavirus COVID 19 Test Fee And Charges

14 घंटे पहले

जिम्बाब्वे को पाकिस्तान दौरे पर टी-20 और वनडे की सीरीज खेलना है। इसके लिए जिम्बाब्वे टीम 20 अक्टूबर को पाकिस्तान पहुंचेगी। -फाइल फोटो

  • पाकिस्तान को जुलाई में इंग्लैंड दौरे के लिए स्पॉन्सर तक नहीं मिल रहा था, आखिरी मौके पर पेप्सी ने स्थिति संभाली और कॉन्ट्रैक्ट बढ़ा दिया
  • हाल ही में पीसीबी के एक अधिकारी ने कहा था- बोर्ड की आर्थिक हालत अच्छी नहीं, यही स्थिति रही तो बोर्ड सिर्फ 2 से 3 साल तक चल सकता है
  • 7 साल से भारत-पाकिस्तान के बीच सीरीज नहीं हुई, रिपोर्ट्स के मुताबिक इससे पीसीबी को 663 करोड़ का नुकसान हुआ

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) की आर्थिक स्थिति खराब होती जा रही है। बोर्ड ने अब घरेलू टूर्नामेंट में खेलने वाले 240 खिलाड़ियों समेत कई अधिकारियों से कोरोना टेस्ट के पैसे तक मांग लिए। सूत्रों की मानें तो बोर्ड के पास कोरोना टेस्ट के लिए लैबोरेटरी और हॉस्पिटल की सुविधा भी नहीं है।

दरअसल, पाकिस्तान में 30 सितंबर से रावलपिंडी और मुल्तान में नेशनल टी-20 चैम्पियनशिप शुरू होनी है। इसके पहले खिलाड़ियों और अधिकारियों को शुरुआती दो कोरोना टेस्ट कराना अनिवार्य है। पीसीबी ने कहा कि पहले टेस्ट के लिए पैसे चुकाने होंगे, जबकि दूसरी जांच का खर्च बोर्ड उठाएगा।

पीसीबी को स्पॉन्सर तक नहीं मिल रहा था
कोरोना के कारण पाकिस्तान की सभी क्रिकेट सीरीज टल गईं। सितंबर में पाक की मेजबानी में होने वाला एशिया कप के टलने से भी बोर्ड का काफी नुकसान हुआ। हालत यह हुई कि पाकिस्तान को जुलाई में इंग्लैंड दौरे के लिए स्पॉन्सर तक नहीं मिल रहा था। इसके बाद पेप्सी और मोबाइल कंपनी ‘ईजी पैसा’ ने आखिरी मौके पर स्थिति संभाली और कॉन्ट्रैक्ट बढ़ा दिया।

पीसीबी ने कर्मचारियों को भी नौकरी से निकाला
आर्थिक तंगी के चलते पीसीबी ने हाल ही में अपने 5 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया था। बोर्ड में इस समय करीब 800 लोग काम करते हैं। सभी के परफॉर्मेंस पर नजर रखी जा रही है। पीसीबी ने गैरजरूरी और खराब परफॉर्मेंस वाले कर्मचारियों को निकालने की पूरी तैयारी कर ली है। इसी दौरान एक पीसीबी अधिकारी ने कहा था कि बोर्ड की आर्थिक हालत अच्छी नहीं है। यदि यही स्थिति रही तो पीसीबी 2 से 3 साल तक चल सकता है।

भारत से सीरीज नहीं होने पर पीसीबी को 663 करोड़ का नुकसान
मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो भारत-पाकिस्तान के बीच सीरीज नहीं होने से पीसीबी को करीब 90 मिलियन डॉलर (करीब 663 करोड़ रुपए) का नुकसान हुआ है। दोनों देशों के बीच तनाव के कारण क्रिकेट नहीं खेला जा रहा है।

7 साल से नहीं हुई भारत-पाकिस्तान सीरीज
भारत और पाकिस्तान के बीच पिछली बार दिसंबर 2012 में 3 वनडे की द्विपक्षीय सीरीज खेली गई थी। पिछली सीरीज में भारत को अपने ही घर में 1-2 से हार मिली थी। यदि मैच की बात करें तो दोनों टीमों के बीच पिछले साल ही वनडे वर्ल्ड कप में मुकाबला हुआ था। इस मैच में भारतीय टीम ने हर बार की तरह वर्ल्ड कप में पाकिस्तान के खिलाफ जीत हासिल की थी।

‘भारत-पाकिस्तान सीरीज से 2 हजार करोड़ तक की कमाई संभव’
हाल ही में पूर्व पाकिस्तानी तेज गेंदबाज शोएब अख्तर ने पाकिस्तान को आर्थिक संकट से निकालने के लिए भारत के साथ सीरीज कराने की बात कही थी। उन्होंने कहा था, ‘‘मैं चाहता हूं कि इस संकट के समय में भारत-पाकिस्तान के बीच खाली स्टेडियम में मैच होना चाहिए। यदि दोनों देशों के बीच 3 वनडे या टी-20 की सीरीज होती है, तो करोड़ों लोग इसे घर बैठे देखेंगे। कई कंपनियां इस पर खुलकर पैसा लगाएंगी। इससे 200 से 300 मिलियन डॉलर (करीब 1500 से 2 हजार करोड़ रुपए) कमाई हो सकती है, जिसे दोनों देश आधा-आधा रख सकते हैं।’’

2009 आतंकी हमले के बाद पाकिस्तान में इंटरनेशनल क्रिकेट बंद

2009 में पाकिस्तान दौरे पर श्रीलंकाई खिलाड़ियों की बस पर आतंकी हमला हुआ था। इसके बाद से पाकिस्तान में आतंकी डर के कारण क्रिकेट बंद है। घर में इंटरनेशनल क्रिकेट नहीं होने से भी पीसीबी 11 साल से बड़ा आर्थिक नुकसान झेलता आ रहा है। हालांकि, 10 साल बाद 2019 में श्रीलंका टीम ने पाकिस्तान दौरे पर 2 टेस्ट की सीरीज खेली थी।

0



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments