Saturday, July 24, 2021
HomeUttar Pradeshपहली बारिश में ही मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे का हाल बेहाल, कई जगह...

पहली बारिश में ही मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे का हाल बेहाल, कई जगह धंंस गई सड़क


दो महीने में ही बारिश से धंस गया मेरठ-दिल्ली एक्सप्रेस वे, सडक़ में कई जगह दरारें.   

पहली बारिश में ही मेरठ- दिल्ली एक्सप्रेस वे का हाल बेहाल होने लगा. यह दो माह पहले ही शुरू हुआ है. बारिश से कई जगह सड़क धंस गई. बताया जाता है कि मिट्टी कटान होने से सडक़ में दरार आ गई. आनन -फानन में अधिकारी एक्सप्रेस वे को दुरुस्त करने में जुट गए हैं.

मेरठ. कुछ दिन पहले ही बनकर तैयार हुए मेरठ -दिल्ली एक्सप्रेस वे ( Meerut Delhi Expressway) पर लोगों ने फर्राटा भरना शरू किया था, लेकिन चंद  दिनों के अंदर पहली बारिश में इस एक्सप्रेस वे का हाल बेहाल होने लगा. बारिश से कई जगह सड़क धंस गई. बताया जाता है कि मिट्टी कटान होने से सड़क में दरार आ गई. आनन -फानन में अधिकारी एक्सप्रेस वे को दुरुस्त करने में जुट गए हैं. बीते एक अप्रैल को मेरठ और वेस्ट यूपी के लोगों को एक्सप्रेस वे के रूप में बड़ा तोहफा मिला था. इस एक्सप्रेस वे से मेरठ दिल्ली की दूरी मात्र पैंतालिस मिनट में ही पूरी करने की बात कही गई थी, लेकिन ये क्या अभी एक्सप्रेस वे को शुरू हुए दो महीना भी नहीं हुआ और पहली बारिश में ही सड़क किनारे की मिट्टी कई जगह से धंस गई. बारिश के कारण सडक़ पर दरार आ गईं. इस एक्सप्रेस की सड़क पर जैसे ही दरार आने की बात सामने आई ये चर्चा का विषय बन गया कि दो महीने के अंदर ही आखिर इस सडक़ का ये हाल कैसे हो सकता है. इस बावत जिम्मेदारों का कहना है कि ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे होने के कारण मिट्टी में दलदल ज्यादा है. जिस वजह से सड़क में दरार आ गईं. हालांकि मोर्चा संभालते हुए 70 कर्मचारियों को लगा दिया गया और किसी भी वाहन को कोई दिक्कत नहीं आएगी. साथ ही उस स्थान को कवर करा दिया गया जहां ये सडक़ धंसी है. टीम जेसीबी लेकर धंसी हुई सडक़ को ठीक करने में जुटी गई है. बताया जाता है कि बारिश से बहादरपुर अंडरपास से लेकर कुशलिया तक कई जगहों पर किनारे की नालियां बह गईं. मिट्टी बह जाने के कारण कई जगह सडक़ भी धंस गई. टोल प्लाजा से 20 मीटर की दूरी पर बने धर्म कांटे के पास सड़क बैठ गई है. दूसरी ओर कुछ जगहों पर सड़क किनारे बना डिवाइडर भी बारिश के पानी के साथ बह गया जिसके कारण सड़क खोखली हो गई है. हमें उम्मीद है कि जल्द से जल्द इन दिक्कतों को दूर किया जाएगा क्योंकि मखमल जैसी सड़क पर टाट का पैबंद अच्छा नहीं लगता.









Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments