• Hindi News
  • Sports
  • India Vs Australia Test Series Updates Adam Gilchrist Mike Hussey Prithvi Shaw Indian Batsmen Fail

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सिडनी2 घंटे पहले

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज एडम गिलक्रिस्ट (बाएं) और माइक हसी ने भारतीय बल्लेबाजों पर निशाना साधा। (फाइल फोटो)

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले जा रहे टेस्ट सीरीज के पहले मैच को लेकर पूर्व दिग्गज खिलाड़ियों ने भारतीय बल्लेबाजों पर निशाना साधा है। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरी पारी में टीम इंडिया अपने टेस्ट इतिहास के सबसे कम स्कोर 36 रन पर सिमट गई थी। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व ओपनर एडम गिलक्रिस्ट ने कहा कि ओपनर पृथ्वी शॉ के जल्दी आउट होने से टीम इंडिया बैकफुट पर आ गई। वहीं, माइक हसी ने कहा है कि इंडियन बैट्समैन के फुटवर्क में विश्वास की कमी दिखी। यही वजह रही कि टीम कम स्कोर पर लुढ़क गई।

पहली पारी में कोहली ने दिखाया मास्टर-क्लास

गिलक्रिस्ट ने मिड-डे अखबार में अपने कॉलम में लिखा, ‘मुझे लगता है कि पहली पारी में चेतेश्वर पुजारा और विराट कोहली ने धीमी और डिफेंसिव बल्लेबाजी की। यही चीज भारतीय टीम दूसरी पारी में नहीं दोहरा सकी। पहली पारी में कोहली के मास्टर-क्लास और साथ ही चेतेश्वर पुजारा और अजिंक्य रहाणे की पारियों ने यह सुनिश्चित किया कि भारत 244 तक पहुंचे।’

शॉ के आउट होने से टीम इंडिया बैकफुट पर

गिलक्रिस्ट का मानना है कि ओपनर पृथ्वी शॉ के दोनों पारियों में जल्दी आउट होने से टीम पर अतिरिक्त दबाव आ गया। गिलक्रिस्ट ने लिखा, ‘दोनों इनिंग्स में शॉ के जल्दी आउट होने से टीम बैकफुट पर आ गई। ऑस्ट्रेलियाई टीम ने शॉ के बैट और पैड के बीच गैप का पूरी तरह से फायदा उठाया। शॉ प्रतिभाशाली हैं, लेकिन उनको अपना प्रदर्शन सुधारना होगा। उनके न खेलने से टीम इंडिया को परेशानी हो सकती है।’

फुटवर्क में आत्मविश्वास की कमी : हसी

वहीं, माइक हसी ने ईएसपीएन क्रिकइंफो से बात करते हुए कहा, ‘भारतीय बल्लेबाज आमतौर पर अपना अगला पैर ज्यादा बाहर नहीं निकालते, जो कई बार आपको आस्ट्रेलियाई पिचों पर करना होता है। उनका आधा पैर बाहर और आधा पैर क्रीज में होता है। भारतीय टीम में कोहली एकमात्र ऐसे बल्लेबाज जिनका स्टांस सही है। कोहली ने अपने फुटवर्क से सबको प्रभावित किया है।

ऑस्ट्रेलिया में शुरुआती 15-20 बॉल बेहद मुश्किल

हसी ने कहा, ‘ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजों ने ज्यादातर बॉल फुल लेंथ पर फेंका। ऐसे में भारतीय बल्लेबाजों की तरफ से ज्यादा फुटवर्क नहीं होने के कारण बॉल बल्ले का किनारा लेकर हवा में जा रही थी। आस्ट्रेलिया में जब पिचें नई होती हैं, आपकी 15 से 20 गेंदें सबसे ज्यादा मुश्किल होती हैं। एक बार जब आप उससे पार पा लेते हैं, तो आपको लगता है कि आप रन कर सकते हैं। अगर आपका फुटवर्क सही नहीं है तो आप जल्दी पवेलियन लौट सकते हैं।’



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here