ज्यादा शोर से हो सकता है डीएनए को नुकसान, घेर सकती है हाई ब्लड प्रेशर और कैंसर जैसी बीमारी
Spread the love


ज्यादा शोर मानव स्वास्थ्य पर व्यापक असर डालता है. (फोटो साभार: pexels/Andrea Piacquadio)

ज्यादा शोर-शराबे के बीच रहना सेहत (Health) के लिए नुकसानदायक हो सकता है. एक अध्ययन (Study) के मुताबिक ज्यादा शोर के संपर्क में आने से हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) और कैंसर (Cancer) जैसी बीमारियां हो सकती हैं.



  • Last Updated:
    September 19, 2020, 10:44 AM IST

तेज शोर (Loud Noises) वैसे भी कानों के लिए अच्छा नहीं होता है, लेकिन शोधकर्ताओं (Researchers) का कहना है कि ज्यादा शोर-शराबे के बीच रहना सेहत (Health) के लिए काफी बुरा है. एक नए अध्ययन (Study) में पाया गया है कि ज्यादा शोर के संपर्क में आने से हाई ब्लड प्रेशर (High Blood Pressure) और कैंसर (Cancer) जैसी बीमारियां घेर सकती हैं. किसी भी स्त्रोत से निकलने वाला ज्यादा शोर मानव स्वास्थ्य पर व्यापक असर डालता है. जर्मन शोधकर्ता चूहों को तेज आवाज के संपर्क में लाए जैसे एक गुजरने वाले विमान के शोर. उन्होंने देखा कि तेज आवाज के संपर्क में आकर किस तरह चूहों की सेहत प्रभावित हुई. चूहों को चार दिन तक विमान की आवाज सुनाई और पाया कि उन्हें हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत हो गई है.

यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर ऑफ मेंज के शोधकर्ताओं ने चूहों के स्वास्थ्य पर वातावरण के शोर के प्रभाव पर किए गए विभिन्न अध्ययनों को प्रकाशित किया है. जर्नल में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि उच्च स्तर की ध्वनि से हाई ब्लड प्रेशर और डीएनए की क्षति हो सकती है जो कैंसर के विकास से जुड़ा है.

ये भी पढ़ें – भारत में पुरुषों से ज्यादा महिलाएं होती हैं डिप्रेशन का शिकार, जानिए कारण और इलाजशोधकर्ता अब सबसे अधिक जोखिम वाले लोगों के लिए उच्च ध्वनि से बेहतर सुरक्षा की मांग कर रहे हैं. सिर्फ चार दिनों के विमान के शोर के कारण चूहों और जानवरों में ब्लड प्रेशर पहले से ही बढ़ गया था और शोर आगे तनाव के स्तर और हृदय की सूजन का कारण बना, जिससे और अधिक क्षति हुई.

myUpchar के अनुसार हाई ब्लड प्रेशर होने से दिल का दौरा, धमनी की दीवार पर अत्यधिक सूजन, किडनी में कमजोर और संकुचित रक्त कोशिकाओं का होना, आंखों की रक्त कोशिकाओं पर असर, मेटाबॉलिज्म से जुड़े विकार, याद्दाश्त संबंधित जटिलताएं पैदा हो सकती हैं. पर्यावरणीय कारक भी कैंसर के विकास के जोखिम को बढ़ाते हैं.

ये भी पढ़ें – जानिए क्या होता है बाइपोलर डिसऑर्डर में, योग से ऐसे मिलेगा फायदा

यह शोध अमेरिका में एक बड़े हेल्थ कॉन्फ्रेंस में प्रस्तुत होना था जिसे कोविड -19 के प्रकोप के कारण रद्द कर दिया गया था. मुख्य शोधकर्ता माथियास ओलेज ने कहा, ‘बड़े अध्ययनों ने लोगों में स्वास्थ्य समस्याओं के लिए शोर के जोखिम को जोड़ा है. हमारा नया डाटा इन स्वास्थ्य पर पड़ने वाले प्रतिकूल प्रभावों, विशेष रूप से हाई ब्लड प्रेशर और संभावित कैंसर विकास में ज्यादा अंतदृष्टि प्रदान करता है जो वैश्विक मृत्यु के दो प्रमुख कारण हैं. शोध अभी तक जानवरों पर की गई एक स्टडी है और यह स्थापित नहीं किया है कि कैसे ज्यादा शोर स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, कैंसर के प्रकार, चरण, कारण, लक्षण, बचाव, इलाज और दवा पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here