मेलबर्न: महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर का मानना है कि एडीलेड में पहले टेस्ट में भारत की शर्मनाक हार के बाद मेलबर्न में चल रहे बॉक्सिंग डे टेस्ट में अजिंक्य रहाणे का शतक देश के क्रिकेट इतिहास की सबसे महत्वपूर्ण पारियों में गिना जाएगा.

एडीलेड ओवल में पहले टेस्ट की दूसरी पारी में भारतीय टीम 36 रन पर ढेर हो गई थी, जो टेस्ट इतिहास का उसका न्यूनतम स्कोर था. ऑस्ट्रेलिया ने इसके बाद पहला टेस्ट आठ विकेट से जीता. हालांकि भारतीय टीम ने मेलबर्न में चल रहे दूसरे टेस्ट मैच में ज़ोरदार वापसी की है और वो जीत की ओर अग्रसर है. भारत के लिए अजिंक्य रहाणे ने शतक जड़ा जबकि गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया.

सुनील गावस्कर ने सेवन नेटवर्क से कहा, ‘‘मेरा मानना है कि यह शतक भारतीय क्रिकेट के इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण शतकों में से एक होगा.’’

विराट कोहली की गैरमौजूदगी में कप्तान की ज़िम्मेदारी संभाल रहे अजिंक्य रहाणे की 112 रनों की धैर्यपूर्ण पारी की बदौलत भारत ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ पहली पारी के आधार पर 131 रन की बढ़त हासिल की और सोमवार को तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक मेजबान टीम का दूसरी पारी में स्कोर छह विकेट पर 133 रन करके अपनी स्थिति काफी मजबूत कर ली.

गावस्कर ने कहा कि इस पारी से घरेलू टीम को संदेश गया कि भारत सीरीज़ के पहले मैच में शर्मनाक हार के बावजूद घुटने नहीं टेकेगा. गावस्कर ने कहा, ‘‘महत्वपूर्ण पारी क्योंकि इससे जज्बे का पता चला, इस तरह की वापसी करके विरोधी टीम को संदेश गया कि पिछले मैच में 36 रन पर सिमटने के बावजूद यह भारतीय टीम घुटने नहीं टेकने वाली.’’

उन्होंने कहा, ‘‘यह संदेश है और यही कारण है कि मुझे लगता है कि यह भारतीय क्रिकेट के इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण शतकों में से एक होगा.’’

रहाणे के शतक के अलावा टीम इंडिया के गेंदबाज़ों ने भी दूसरे टेस्ट में अच्छी गेंदबाज़ी की है. पहली पारी में जस्प्रीत बुमराह ने चार तो आर अश्विन ने तीन विकेट झटके, जबकि मोहम्मद सिराज को दो सफलता मिली. इसकी बदौलत टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया को 195 रनों पर ही रोक दिया.

IND vs AUS: ऑस्ट्रेलियाई टीम के प्रदर्शन से नाखुश हैं रिकी पोंटिंग, बल्लेबाज़ों को सुनाई खरी-खोटी 



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here