जड़ी-बूटियों के इस्तेमाल से वजन तो कम होता रहेगा, साथ ही पेट से जुड़ी तकलीफें भी दूर होंगी.


जड़ी-बूटियों के इस्तेमाल से वजन तो कम होता रहेगा, साथ ही पेट से जुड़ी तकलीफें भी दूर होंगी.

आयुर्वेद (Ayurveda) में शरीर को विषाक्त पदार्थों को निकालने, भोजन से जुड़ी आदतों में सुधार, पाचन तंत्र को मजबूती देने, मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाने और तनाव के स्तर को घटाने के लिए विभिन्न जड़ी-बूटियां और औषधियां फायदेमंद होती हैं.



  • Last Updated:
    December 17, 2020, 11:37 AM IST

आयुर्वेद (Ayurveda) की नजर में वजन बढ़ना (Weight Gain) एक चक्रीय प्रक्रिया है. जीवनशैली और आहार से संबंधित जब गलत आदतें बढ़ने लगती हैं तो पाचन अग्नि कमजोर हो जाती है. इससे शरीर में विषाक्त पदार्थ बढ़ने लगते हैं. फैट (वसा) और मेटाबॉलिज्म (चयापचय) ऊतकों में दिक्कतें आती हैं. प्रणाली के कार्य में असंतुलन आने पर ऊतकों में कुछ बदलाव होते हैं, जिससे अपने आप ही वजन बढ़ने लगता है. कफ दोष, वात ऊर्जा और मेद धातु (वसा) में असंतुलन होता है. myUpchar के अनुसार, आयुर्वेद में शरीर को विषाक्त पदार्थों को निकालने, भोजन से जुड़ी आदतों में सुधार, पाचन तंत्र को मजबूती देने, मेटाबॉलिज्म को बेहतर बनाने और तनाव के स्तर को घटाने के लिए विभिन्न जड़ी-बूटियां और औषधियां फायदेमंद होती हैं. इन जड़ी-बूटियों के इस्तेमाल से वजन तो कम होता रहेगा, साथ ही पेट से जुड़ी तकलीफें भी दूर होंगी.

दालचीनी

एंटीऑक्सीडेंट और एंटीइंफ्लेमेटरी गुणों से भरपूर दालचीनी का इस्तेमाल सदियों से जड़ी-बूटी के रूप में किया जा रहा है. वजन घटाने में दालचीनी का इस्तेमाल कारगर सिद्ध हो सकता है. यह मेटाबॉलिज्म को बेहतर करने में मदद करता है. स्वाद और खुशबू बढ़ाने में इस्तेमाल किए जाने वाला यह भारतीय मसाला भूख दबाने में भी मदद करता है. यह कोलेस्ट्रॉल को कम करने और मेटाबोलिक रेट बढ़ाने के लिए पहचाना जाता है. यह शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और पेट फूलने की समस्या दूर करता है. दालचीनी के पाउडर को उबलते पानी में मिलाएं और दो-तीन या इससे समय के लिए इसे उबलने दें. इस मिश्रण को छानकर पी लें. ध्यान रहे कि वजन घटाने के लिए सीलोन दालचीनी का ही इस्तेमाल करें.सिंहपर्णी

एक कप पानी में एक चम्मच सिंहपर्णी को उबाल लें. अच्छी तरह से उबल जाने पर मिश्रण को छानकर ठंडा करें और इसे पी लें. सिंहपर्णी पाचन क्रिया को कम करती है जिससे भूख लंबे समय तक नहीं लगती. फाइबर से समृद्ध सिंहपर्णी वसा वाले मॉलिक्यूल्स को अवशोषित होने से रोकती है. हानिकारण ऑक्सीजन के रेडिकल्स को साफ करने में मदद करती है और विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालती है.

नीम

वजन कम करने के लिए नीम का इस्तेमाल भी किया जा सकता है, इसमें औषधीय गुण मौजूद होते हैं. इस्तेमाल के लिए 4-5 नीम की पत्तियों को मसल लें और उसमें एक कप पानी मिलाएं. अच्छी तरह मिल जाने के बाद इसे पी जाएं. नीम शरीर के विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और ब्लड सर्कुलेशन में सुधार करता है. मेटाबॉलिज्म को बढ़ाकर यह वजन कम करने में भी सहायक है.

काली मिर्च

पिपरिन से भरपूर काली मिर्च वजन दूर करने में मदद करती है. इसमें मौजूद पिपरिन नामक तत्व वसा कोशिकाओं को बनने से रोकता है. इस्तेमाल के लिए एक कप गर्म पानी में एक चौथाई काली मिर्च और एक चम्मच शहद मिलाकर पी जाएं. यह वसा कोशिकाओं को फैलने से रोकता है और पेट को स्वस्थ बनाता है. यह शरीर से विषाक्त पदार्थ को बाहर निकालने में मदद करता है. इसके अलावा रोजाना इस पानी के सेवन से शरीर को टोंड होने में मदद मिलती है.

ग्रीन टी

myUpchar  के अनुसार, हर व्यक्ति की मेटाबॉलिज्म प्रणाली अलग तरीके से काम करती है. कुछ में यह तेजी से काम करती है जो वसा को जमा नहीं देती, जबकि कुछ में यह धीमी गति से काम करती है जो वजन बढ़ाने की ओर ले जाती है. यह एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है, मेटाबॉलिज्म बढ़ाता है और वसा को पिघलने में मदद करता है. इस्तेमाल के लिए एक कप पानी को गर्म करें और उसमें दालचीनी पाउडर मिलाएं और दो मिनट उबलने दें. स्टोव बंद कर अब ग्रीन टी की पत्तियां डाल दें. थोड़ा उबलने पर मिश्रण को छानकर पी लें.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, वजन कम करने के आयुर्वेदिक उपाय पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं. सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here