(फोटो: सोशल मीडिया)


(फोटो: सोशल मीडिया)

चीन (China) के बीजिंग (Beijing) में टियान नाम का एक व्यक्ति 2014 में हॉस्पिटल में एडमिट हुआ था. उसे चक्कर आ रहे थे और उल्टियां हो रही थीं. उसे कुछ दिनों तक अस्पताल में ही रहना था. मगर अस्पताल के बिल को लेकर अस्पताल प्रशासन और उस व्यक्ति में ठन गई जिसके कारण उसने अस्पताल का कमरा खाली करने से मना कर दिया.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 6, 2021, 11:42 PM IST

चीन (China) की एक फैमिली पिछले 6 सालों से हॉस्पिटल (Hospital) में रह रही थी, हाल ही में उसने हॉस्पिटल खाली किया. दरअसल, एक शख्स मामूली बीमारी के बाद 6 साल पहले हॉस्पिटल में भर्ती हुआ था. इसके बाद हॉस्पिटल की फीस को लेकर उसका विवाद हुआ. जिसके बाद हॉस्पिटल ने उसे बाहर नहीं निकलने दिया. ऐसे में वो पूरी फैमिली के साथ हॉस्पिटल में रहने लगा. हाल में हॉस्पिटल उसे बाहर जाने देने को तैयार हुआ.

चीन के बीजिंग में टियान नाम का एक व्यक्ति 2014 में हॉस्पिटल में एडमिट हुआ था. उसे चक्कर आ रहे थे और उल्टियां हो रही थीं. उसे कुछ दिनों तक अस्पताल में ही रहना था. मगर अस्पताल के बिल को लेकर अस्पताल प्रशासन और उस व्यक्ति में ठन गई. जिसके कारण उसने अस्पताल का कमरा खाली करने से मना कर दिया. उसके माता पिता भी वहीं आकर रहने लगे.

ये है पूरा मामला
जब टियान के ठीक होने के बाद अस्पताल का बिल चुकाने की बात आई तो उसने गलत तरह से इलाज करने का आरोप लगाया और जाने से मना किया. टियान और उसके माता-पिता ने अस्पताल के उस कमरे को अपना घर बना लिया. वहां वो गृहस्थी से जुड़े सामान लेकर आ गए.

अस्पताल प्रशासन ने उन्हें बाहर निकालने की बहुत कोशिश की. कोर्ट में केस शुरु हुआ को अस्पताल ने कहा कि टियान बेड छोड़ेंगे तो असली जरूरतमंद लोगों को बेड मिल सकेगा. मगर टियान ने अस्पताल पर लापरवाही का इल्जाम लगाया. केस चलता रहा मगर हाल ही में कोर्ट ने 6 साल बाद टियान और उनके परिवार को आदेश दिया कि वो कमरा खाली करें. साथ ही कोर्ट ने अस्पताल को 73 हजार डॉलर टियान और उसके पिरवार को देने के लिए कहा क्योंकि कोर्ट ने माना कि अस्पताल ने इलाज में लापरवाही की है.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here